कौन बनेगा MP का राजा कमलनाथ या शिवराज? जाने जनता किसको रखना चाहती है CM के पद पर 

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख 17 नवंबर 2023 की घोषणा हो चुकी है। मुख्यमंत्री के पद का ये चुनाव काफी टक्कर का दिख रहा है। अगामी विधानसभा चुनाव मंत्रियों से लेकर आम जनता तक बहुत ही बड़ा मुद्दा बना हुआ है इसके साथ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी दोनों जनता को अपने पक्ष में करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। 

मध्य प्रदेश में जनता से वोट बटोरने के लिए सभी कार्यकर्ता पार्टी उन्हें लुभाने में लगी हुई है ऐसे में मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच एक कदम से आगे का खेल है। एक तरफ जहां शिवराज सिंह चौहान ने जनता को खुश करने के लिए एड़ी से छोटी तक का जोर लगा दिया है वहीं दूसरी तरफ कमलनाथ ने जनता के आगे अपने वादों का पिटारा खोल दिया है। 

वर्तमान में मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 13 साल 17 दिनों से सीएम हैं उन्हें मध्य प्रदेश के सबसे लम्बे समय तक के मुख्यमंत्री के रूप में भी जाना जाता है। दूसरी तरफ कमलनाथ ने भी अपना काम कर लिया है पर भारतीय जनता पार्टी चाहती है कि एमपी में कमल जस का तस खिला रहे। लेकिन क्या होगा इसका अंदाज़ा तो शायद किसी को नहीं है। मध्य प्रदेश में शिवराज और कमलनाथ ने दो लोगों को लुभाने का प्रयास किया है, इस सूची में ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम भी शामिल हो गया है। 

आखिर किसे चुनेगी जनता 

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सबके मन में यही शंका है कि कौन बनेगा नया सीएम आखिर किसको मुख्यमंत्री पद के लिए चुना जाएगा?

इसके सन्दर्भ में प्रदेश की जनता की राय को भी हमने इकट्ठा किया है जिसके मुताबिक मध्य प्रदेश में 47 फिसदी लोग ऐसे हैं जिनकी पसंद मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान हैं वही 42 फिसदी लोग ऐसे भी हैं जो कांग्रेस को यानी कि कमलनाथ को भी एक मौका देना चाहते हैं इसके अलावा दो नाम ऐसे भी हैं जिन्होंने जनता के मन में अपना प्रवेश किया है जिसमें पहला है ज्योतिरादित्य सिंधिया है जो 10वी जनता की पसंद है और दूसरे दिग्विजय सिंह दो फिसदी जनता की पसंद से है।  

धार्मिक गुरुओं के प्रवचन बटोर रहे सुर्खियां  

मध्य प्रदेश का राजा कौन होगा? आखिर कौन बैठेगा मुख्यमंत्री की कुर्सी पर इस् मुद्दे पर प्रदेश भर की जनता की नजर है। अब जब सब अपनी-अपनी राय बता ही रहे हैं तो ऐसे में धर्मगुरु कैसे पीछे रह सकते हैं। अनेकों धर्मगुरु और साधु संत अपनी अपनी टिपणि दे रहे हैं जिसमें बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र शास्त्री और जगतगुरु रामभद्राचार्य ने आगामी मुख्यमंत्री के रूप में शिवराज सिंह चौहान के नाम का पंचांग निकाला और मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद दिया है। आपको बता दें कि इन्होंने इस साल हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने का पंचांग निकला था जो सही साबित हुआ।

इसे भी पढ़ें –  मध्यप्रदेश में चुनाव के बाद बहनों को मिलेंगे 1500 रुपये प्रतिमाह, देखें क्या है योजना

Author

  • Karan Sharma

    मेरा नाम करण है और मैं apnakal.com वेबसाइट के लिए आर्टिकल लिखता हूं। हिंदी लिखने का मेरा जुनून है जो मुझे सब कुछ के बारे में लिखने के लिए प्रेरित करता है।

    View all posts

Leave a Comment

Your Website