मध्यप्रदेश में 66 वर्षों में पहली बार हुआ इतना मतदान, भाजपा को खतरा उधर कांग्रेस ने जीत का किया दावा

मध्य प्रदेश में कल 17 नवंबर सुबह से ही मतदान प्रक्रिया आरंभ हो गई थी। 2533 उम्मीदवारों के भविष्य का निर्णय मतदाताओं ने ईवीएम मशीन में कैद कर दिया है। प्रदेश भर में युवाओं के साथ अन्य सभी वर्गों के लोगों में वोटिंग को लेकर बेहद उत्साह देखने को मिला। युवा मतदाता जो इस साल पहली बार मतदान करने वाले थे उनके चेहरों पर मतदान को लेकर उत्साह और खुशी अलग ही दिखी उन्होंने मतदान करने के दौरान सेल्फी ली और उन्हें सोशल मीडिया पर अपलोड किया और अपनी ख़ुशी ज़ाहिर की। 

बीते वर्ष 2018 में 75.63 फिसदी तक मतदान हुए जो कि इस साल का मुकाबला एक फिसदी कम थे वही एमपी के कुल 55 जिलों में कल एक साथ वोटिंग हुई सभी क्षेत्र के लोगों ने बढ़ चढ़कर मतदान किया, यही कारण था कि मध्य प्रदेश ने अबकी बार 66 वर्षों में हुए मतदान का रिकार्ड तोड़ दिया। 

मध्य प्रदेश के कुल 55 जिलों में वोटिंग हुई, 15 जिलों में 58 से 70 फिसदी के बीच वोटिंग हुई तो वही 40 जिलों में 70 फिसदी से भी ज्यादा मतदान हुआ जो आपने आप नहीं गौरव की बात है इसके साथ ही आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के आगर-मालवा जिले में सबसे ज्यादा वोटिंग हुई, राज्य के अन्य सभी जिलों में कितनी वोटिंग हुई हम आपको आगे इस लेख बताएंगे। 

मतदान समाप्त होते ही कांग्रेस ने जीत का दावा किया 

विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होते ही कांग्रेस के कुछ नेताओं ने चुनाव में भारी मतों से विजयी होने का दावा किया है। प्रदेश प्रभारी कुमारी शैलजा ने चुनावी नतीजों पर टिप्पणी देते हुए कहा कि चारों तरफ से वही आवाज आ रही है जो हम कहते थे कांग्रेस पार्टी की बढ़िया रिपोर्ट है कांग्रेस की सरकार बनेगी और बढ़िया ढंग से बनेगी। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के चेहरे के मुद्दे पर शैलजा बोलीं, पहले नतीजे आएंगे और फिर मुलाकात होगी। 

उमरिया ने रच दिया इतिहास 

मध्य प्रदेश के उमरिया जिले में चौका देने वाली खबर सामने आई है। दरअसल मध्य प्रदेश के उमरिया जिले में 100 फिसदी मतदान कर धूपखेड़ा पोलिंग बूथ ने इतिहास रच दिया है। बता दे कि जिला प्रशासन की पहल पर नागरिकों ने मतदान को प्राथमिकता देते हुए अपना कीमती  वोट दिया। 

अलीराजपुर में हुआ सबसे कम मतदान 

जहां एक तरफ शिवराज सिंह चौहान ने अपनी अलीराजपुर विधानसभा में मतदान के प्रति पूरा जोर लगा दिया था तो वही ग्राउंड जीरो से बहुत निराश कर देने वाली खबर देखने को मिली। बता दे कि अलीराजपुर जिले में 2 विधान सभा हैं प्रदेश में सबसे कम वोट जोबट विधान सभा में हुआ। 

इसे भी पढ़ें –  प्रत्याशी विश्वास सारंग ने युवक को जड़ा थप्पड़, मतदान के दौरान कांग्रेस और बीजेपी में हुई थी झड़प

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

Leave a Comment

Your Website