एक दर्जन से अधिक युवक अचानक नग्न होकर सड़क पर दौड़ने लगे, जानिये क्या है मामला

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में मंगलवार को एसटी और एससी के युवाओं ने नग्न होकर विरोध किया। विरोध किये गए इन युवाओं का कहना है कि छत्तीसगढ़ में 267 लोग अनुसूचित जाति और जनजाति का फर्जी प्रमाण पत्र बनाकर नौकरी कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।  यही वजह है कि हमें इस प्रकार से प्रदर्शन करने को मजबूर होना पड़ा।

एक प्रदर्शनकारी युवक ने कहा कि इन लोगों की गिरफ्तारी और इनके खिलाफ कार्रवाई के लिए हम लोगों ने आमरण अनशन किया था, लेकिन किसी ने हमारी सुनी नहीं इसलिए अब हम नग्न प्रदर्शन कर रहे हैं हमारी मांग है कि फर्जी जाति प्रमाण पत्र धारकों की गिरफ्तारी हो और उनके द्वारा वेतन से अर्जित संपत्ति जब्त करने का काम किया जाए। इतना ही नहीं उन्होंने यह यह भी चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी गईं, तो हम और उग्र प्रदर्शन करेंगे। 

यह वीडिओ शहर के पंडरी थाना क्षेत्र के आमा सिवनी मोड़ का है जहाँ पर के करीब एक दर्जन युवाओं को नग्न होकर विरोध करने पर प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के कुछ युवक अपनी मांगों को लेकर मंगलवार को अचानक विधानसभा की तरफ बढ़ने लगे. ये लोग पूरी तरह से नग्न होकर नारेबाजी करते नजर आये। 

इसे भी पढ़ें – मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना सरकार दे रही है 50 लाख तक का लॉन 

भाजपा का पलटवार 

इस वीडिओ को भाजपा ने अपने ट्विटर हैंडल पर जारी करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में अनुसूचित वर्गों के साथ शोषण का दर दिन प्रति दिन बढ़ता ही जा रहा हैं यह काफी दुखद बात है कि राज्य के युवाओं को भविष्य को नग्न होकर सरकार से अपनी बात मनवानी पड़ रही है बता दें इस वीडियो में राजधानी की सड़कों पर एसटी एससी वर्ग के युवाओं द्वारा नग्न प्रदर्शन किया गया है। 

इसे भी पढ़ें – 20 जुलाई को मेधावी छात्रों को सीएम शिवराज सिंह देंगे बड़ा तोहफा, खाते में आएंगे इतने रुपए

Author

Leave a Comment

Your Website