राज्य सरकारों ने किया 22 जनवरी का अवकाश घोषित, रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को देखते हुए लिया गया फैसला

22 जनवरी का दिन भारत के हर हिंदू नागरिक के लिए ऐतिहासिक पर्व होने वाला है, क्योंकि इस दिन अयोध्या में बन रहे राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा होनी है। भक्तों का 500 सालों का इंतजार अब जाकर समाप्त होने जा रहा है और भगवान श्री राम अपने भव्य मंदिर में विराजमान होने जा रहे हैं। इस दिन को संपूर्ण भारत में एक त्योहार से मनाया जाएगा, घर-घर दीप जलेंगे और दीपावली का माहौल होगा। 

22 जनवरी के दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिक्षण संस्थानों में अवकाश घोषित किया है और साथ ही लोगों से अपील की है कि वह अपने घरों में दीप जलाएं और भगवान राम के आगमन पर मंदिरों में रामायण के पाठ करें। सिर्फ UP में ही नहीं बल्कि अन्य राज्य सरकारों ने भी इस दिन स्कूल कॉलेजो को बंद करके सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है। 

22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को एक ऐतिहासिक पर्व मनाने के लिए भारत के सभी राज्यों से सार्वजनिक अवकाश की मांग आ रही है। गोवा, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के सभी राज्यों की जनता सरकार से 22 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश की मांग कर रही है, जिनमें से गोवा में तो CM प्रमोद सावंत ने 22 जनवरी के अवकाश की घोषणा कर दी है। 

गोवा में छुट्टी का ऐलान किया CM प्रमोद सावंत ने 

बुधवार 10 जनवरी को गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक हुई जिसमें बैठक के बाद CM प्रमोद सावंत ने मीडिया से वार्तालाप करते हुए 22 जनवरी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के दौरान सार्वजनिक अवकाश करने की घोषणा की, साथ ही उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि इस दिन को दिवाली की तरह मनाया जाना चाहिए।  

छत्तीसगढ़राजस्थान सरकार भी करने वाली है अवकाश घोषित 

उत्तर प्रदेश और गोवा के बाद अब राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी 22 जनवरी के दिन अवकाश की मांग की जा रही है। शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने स्कूल- कॉलेजों को बंद रखने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री विष्णु साय को पत्र लिखकर 22 जनवरी के दिन अवकाश की मांग की है।  

वहीं राजस्थान में भी तेजी से 22 जनवरी प्राण प्रतिष्ठा के दिन अब सार्वजनिक अवकाश की मांग को बढ़ावा दिया जा रहा है। राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल ने प्रदेश वासियों से इस दिन को बेहद उत्साह से मनाने के अनुरोध किए हैं, हालांकि राजस्थान के कुछ निजी क्षेत्रीय स्कूलों में उस दिन अवकाश रखा गया है। माना जा रहा है कि जल्द ही राज्य सरकार भी सार्वजनिक अवकाश पर फैसला लेने वाली है।

इसे भी पढ़ें –  अब मोहन सरकार माफ करेगी इन सभी लोगों का बिजली बिल, देखें लिस्ट

मोहन यादव भी कर सकते हैं अवकाश घोषित 

अन्य राज्यों की तरह मध्य प्रदेश की जनता भी 22 जनवरी को होने वाली रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर काफी उत्सुक नजर आ रही है। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने भी इस दिन को धार्मिक पर्व के रूप में दिवाली की तरह मानने की बात कही है। वहीं संभावना है कि CM डॉक्टर मोहन यादव 22 जनवरी को अवकाश घोषित करके स्कूल- कॉलेज के छात्रों सहित राज्य के कर्मचारियों को भी लाभ पहुंचाएं। 

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

    View all posts

Leave a Comment

Your Website