MP News: मोहन कैबिनेट ने लिया फैसला, पूरे मध्य प्रदेश में चलाया जाएगा जल-हठ अभियान

मध्य प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों में जल हट अभियान के तहत बदहाल सूखे तालाबों को पुनर्जीवित और सुंदर बनाने का प्रयास किया जा रहा है। जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावत द्वारा नवाचारित कार्यक्रम के तहत पूरे प्रदेश में तालाबों का पुनर्जीवित करने की घोषणा की गई है।

जल हट अभियान के तहत सूखे तालाबों को पुनर्जीवित का प्रयास

मध्य प्रदेश में अभियान के शुरू होने के बाद पहले चरण में 51 तालाबों को अतिक्रमण मुक्त करने का कार्य शुरू किया जाएगा। तालाबों के सौंदर्यीकरण, गहरीकरण और अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए समुदाय की भागीदारी को महत्त्व दिया जा रहा है। इस प्रक्रिया में स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण को महत्व दिया जा रहा है ताकि जल संसाधन का सही उपयोग हो सके।

ग्रामीण क्षेत्रों में जल हट अभियान से पुनर्जीवित और सुंदर होंगे बदहाल सूखे तालाब। जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावत राऊ विधायक मधु वर्मा भी बैठक में शामिल हुए। जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावत बोले एक नवाचार के तहत पूरे प्रदेश में तालाबों को पुनर्जीवित किया जाएगा। सौंदर्यीकरण, गहरीकरण, अतिक्रमण से मुक्त कराने का अभियान शुरू किया जा रहा है।

पुराने तालाबों और झरनों की हालत को ठीक किया जाएगा

जल संसाधन मंत्री की मौजूदगी में हुई अहम बैठक में पहले चरण में चुने गए 51 तालाब अतिक्रमण मुक्त करने सहित और सौंदर्यीकरण तक की कार्यवाही की जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में एक नवाचार होगा। जिससे पुराने तालाब, झरने उनकी हालत को ठीक किया जाएगा। क्योंकि तालाबों और झरनों की हालत बहुत ज्यादा खराब हो चुकी है और कई वर्षों से उनकी मरम्मत नहीं हुई है।

पानी का संरक्षण, पौधारोपण किया जाएगा

कई वर्षों से तालाबों और झरनों का सीकरण उनका गहरीकरण वृक्षारोपण नहीं हुआ है। तालाबों का जल भराव समाप्त हो गए हैं थे। वो सब समाप्त हो गए हैं। हमारे देश के प्रधानमंत्री का संकल्प है, तालाबों का संरक्षण करना, उनका उद्धार करना, पूरे मध्य प्रदेश में तालाबों और झरनों के मुख्यमंत्री डॉक्टर मोहन यादव जी के कर कमलो द्वारा उद्धार किया जाएगा। पानी का संरक्षण किया जाएगा, पौधारोपण किया जाएगा।

इंदौर जिले के 51 तालाब का गहरीकरण सौंदरी करण, दुरुस्ती, अतिक मुक्त सारे जन प्रतिनिधियों के साथ, अधिकारियों के साथ, यह शुरुआत की जाएगी। इन तालाबों को लेकर जल हट देश के प्रधानमंत्री का संकल्प, मुख्यमंत्री डॉक्टर मोहन यादव जी के नेतृत्व में एक अहम बैठक थी। जिसमें जल मंत्री तुलसी सिलावट जी और विधायक जी थे।

यह भी पढ़ें – मुख्यमंत्री मोहन यादव ने किया विकास, अब पूरे मध्य प्रदेश में दौड़ेंगे मेट्रो ट्रैन

स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण को महत्व

शुरुआत में 51 तालाब चिन्हित किए गए थे। ग्रामीण क्षेत्रों में पुनर्जीवित या उनका सौंदर्यीकरण करना है। इसमें जो प्रक्रिया रहेगी जिनकी वजह से उनके पुनर्जीवित करने से कोई तालाब बहुत खराब कंडीशन में है या पूरे टाइम पर सूखा रहता है उनको चयन में प्राथमिकता दी जाएगी चयन करने के बाद सबसे पहले उसका सीमांकन कराया जाएगा।

शुद्धीकरण का काम

मध्य प्रदेश में अगर कहीं कोई अतिक्रमण है उसको हटाया जाएगा। और जहां से पानी आता है अगर उस चैनल पर भी कोई अतिक्रमण है उसको भी हटाने की कारवाई करी जाएगी। उसके बाद फिर जन समुदाय की भागीदारी के साथ-साथ उसका गहरीकरण कराया जाएगा। जिसमें शासन की तरफ से कोई खर्च ना हो। अगर उसमें कहीं से सीवर मिल रहा है तो उसके भी शुद्धीकरण का काम और इसके बाद सौंदर्यीकरण का काम उसके आस-पास जितने भी काम होंगे उन सब को पूरा किया जाएगा।

यह भी पढ़ें – कैबिनेट मीटिंग में बड़ा फैसला: 4 लाख युवाओं को मिलेंगे स्मार्टफोन-टैबलेट, 1000 एकड़ जमीन में बनेगी फिल्म सिटी 

Author

Leave a Comment

Your Website