प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना 15वीं किस्त के पहले जल्दी करें eKYC और भूमि सत्यापन

किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि योजना के तहत सालाना तीन किस्तों में ₹6000 दिए जाते हैं। सरकार ने इसमें फर्जीवाड़े को रोकने के लिए ई-केवाईसी की अनिवार्यता कर दी गई है। और मिडिया रिर्पोट के अनुसार मध्यप्रदेश के 82% किसानों का सत्यापन हो चुका है। और इन्हे आगामी किस्त का लाभ जल्द ही मिलने वाला है।

पीएम किसान योजना में eKYC और भूमि सत्यापन जरुरी

प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि योजना के तहत मध्यप्रदेश के 1885915 किसान लाभार्थी है। लेकिन सत्यापन न करवाने की वजह से 558548 किसान 15 वीं किस्त से वंचित रह जाएंगे। ई-केवाईसी के साथ भूमि रिकॉर्ड और आधार का सत्यापन न करने वाले किसानों के खाते में ₹2000 की अगली किस्त नहीं आ पाएगी। इस बार 1327367 किसानों के खाते में यह किस्त अगले महीने आने की उम्मीद है| प्रदेश में सबसे अधिक झाबुआ जिले के 112140 किसान के खाते में 15वीं किस्त आएगी।

लाभार्थियों को पिछली किस्त जुलाई में मिली थी

बता दें कि किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मन निधि योजना के तहत सालाना तीन किस्तों में ₹6000 दिए जाते हैं जिनकी खेती की जमीन 5 एकड़ से कम है वह इस योजना के तहत पात्र है। इस योजना के लाभार्थियों को पिछली किस्त जुलाई में मिली थी लेकिन इस बार गड़बड़ी को रोकने के लिए तीन तरह से सत्यापन किया जा रहा है। और इसी वजह से आगामी किस्त में विलंब देखने को मिल सकता है।

कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जिन किसानों ने ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरी नहीं की है उनके लिए अब भी भी मौका है। आधिकारिक पोर्टल  pmkisan.gov.in पर जाकर ई-केवाईसी करवा सकते हैं। ऐसे किसान नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर जल्द से जल्द इस प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

कृषि विभाग के आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में सबसे ज्यादा मुरैना के किसानों का ई- केवाईसी लंबित है वही भूमि संबंधी रिकार्ड अपडेट करवाने में शहडोल के किसान  प्रदेश में सबसे पीछे हैं जबकि आधार सत्यापन करवाने के मामले में सबसे पीछे डिंडोरी जिले के किसान है जहां 13624 किसानों ने आधार का सत्यापन नहीं करवाया है।

अधिकारी के अनुसार ई-केवाईसी की अनिवार्यता की गई है शहडोल जिले में 82% किसानों का सत्यापन हो चुका है करीब 28000 किसानों का सत्यापन बकाया है। जिसके लिए विभाग की ओर से लगातार प्रयास किया जा रहे हैं। ई-केवाईसी के बिना आगे के किस्त नहीं मिल पाएगी ऐसे में सभी किसानों को जल्द से जल्द इसे पूरा कर लेना चाहिए। किसानों को अपने आधार कार्ड से बैंक खाते को लिंक कर लेना चाहिए तथा जमीन का दस्तावेज उपलब्ध कराना चाहिए।

यह भी पढ़ें – देश में नया नियम लागू: आधार और पैन कार्ड से भी ज्यादा जरूरी हुआ जन्म प्रमाण पत्र

15वीं किस्त के पहले कराए eKYC

अगर आप योजना से जुड़े हैं तो ई-केवाईसी जल्द करवाए अगर आप ऐसे नहीं करवाते हैं तो आपकी अगली किस्त अटक सकती है|। कई किसान ऐसे भी हैं जिनके आधार कार्ड अब तक उनके बैंक खाते से लिंक नहीं है अगर ऐसा है तो भी आपकी किस्त नहीं आएगी। इस लिए 15वीं किस्त से पहले eKYC और आधार लिंक DBT सक्रिय करके रखें।

किसान सम्मन निधि की 15वीं किस्त कब आएगी

वित्तीय वर्ष के मुताबिक हर साल पहली किस्त अप्रैल-जुलाई तथा दूसरी किस्त अगस्त-नवंबर और तीसरी किस्त दिसंबर से मार्च के बीच जारी की जाती है यानी 15वीं किस्त 30 नवंबर के पहले कभी भी आ सकती है।

यह भी पढ़ें – Peon Recruitment 2023-24 | कार्यालय चपरासी सीधी भर्ती जल्दी भरें ऑनलाइन फॉर्म

Author

Leave a Comment

Your Website