मध्यप्रदेश पटवारी परीक्षा: नौ लाख पटवारी उम्मीदवार नाराज, भोपाल की सड़कों पर प्रदर्शन की तैयारी

मध्यप्रदेश पटवारी परीक्षा: 2023 में हुई पटवारी परीक्षा को लेकर मध्यप्रदेश सरकार ने अपना अंतिम निर्णय सुनाया जिसके तहत जो रिजल्ट घोषित किया गया था उसको सरकार ने मंजूरी दे दी है इससे परीक्षा में शामिल हुए 9 लाख से अधिक उम्मीदवार नाराज हो गए हैं। कर्मचारी चयन मंडल भोपाल द्वारा आयोजित पटवारी भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी सामने आने के बाद हुई जांच में सभी को क्लीन चिट तो दे दी गई जिसे लेकर अब बाकि 9 लाख अभ्यर्थी इस जांच रिपोर्ट को नामंजूर करने के लिए सड़कों पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं। 

आपको बता दें कि जून 2023 में परीक्षा का परिणाम घोषित हुआ। मध्यप्रदेश पटवारी परीक्षा का रिजल्ट आने के बाद 10 टॉपर्स में से 7 टॉपर्स ने ग्वालियर के NRI परीक्षा केंद्र में बैठकर परीक्षा दी थी। यही नहीं इस केंद्र से कुल 114 उम्मीदवार पास हुए हैं। इसके अलावा और भी कई समानताएं परीक्षा परिणाम में पाए जाने के कारण तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने परीक्षा की प्रक्रिया को स्थगित करके जांच के आदेश दिया था। 

क्लीन चिट को लेकर जांच रिपोर्ट ने क्या कहा 

हाल ही में मिली क्लीन चिट को लेकर जांच रिपोर्ट का कहना है कि उन्होंने अपने फार्मूले का उपयोग करते हुए जांच पूरी कर दी है यदि कहीं कोई गड़बड़ हो गई है तो वह डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन में पकड़ी जाएगी। ऐसे में युवाओं  कहना है कि जो डॉक्यूमेंट जांच आयोग के सामने प्रस्तुत किए गए, उसमें जांच रिपोर्ट कम और सभी आरोपों को नकारने वाली दूसरे पक्ष के वकील की दलील ज्यादा दिखाई दी। ऐसे में उनका पलड़ा भरी हुआ और इस जांच को क्लीन चिट मिल गई। 

प्रदर्शन की तैयारी 

जांच रिपोर्ट में मिली क्लीन चिट का फायदा पास हुए 9000 उम्मीदवारों को तो हुआ परन्तु बाकि 9 लाख उम्मीदवारों का क्या होगा ऐसे में वो सरकार  खिलाफ प्रदर्शन करने की तैयारी में जुट गए हैं आपको बता दें कि पटवारी परीक्षा का मामला विधानसभा में भी उठाया गया था जिसके बाद यह अधिक चर्चा में आया। 

इसे भी पढ़ें –  मध्य प्रदेश में 21 सुरंगों से गुजरेगी नई रेलवे लाइन, इंदौर-दाहोद प्रोजेक्ट भी पूरा

CBI जांच की मांग 

पटवारी परीक्षा भर्ती घोटाले के मामले में क्लीन चिट मिलने के बाद एक बार फिर सियासत शुरू हो गई है विपक्ष की पार्टी कांग्रेस में लाखों छात्रों के साथ हुए अन्याय पर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस मंत्री का कहना है कि व्यापम 1 और व्यापम 2 की तरह ही पटवारी भर्ती घोटाला हुआ है। सरकार ने जांच के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति करने का काम किया है इसलिए अब हम CBI जांच की मांग की मांग करते हैं। 

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

    View all posts

Leave a Comment

Your Website