MP News: मध्य प्रदेश सरकार ने दिखाई सख्ती, अब स्कूलों में एडमिशन लेना हुआ महंगा

मध्य प्रदेश सरकार ने अब बच्चों को लेकर बहुत बड़ी घोषणा कर दी है कि अब स्कूल में बच्चों की एडमिशन की आयु सीमा निर्धारित कर दी गई है। जैसा कि सभी को पता है कि मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति लागू की गई है। जिसके तहत अब 20 फरवरी 2024 को स्कूली बच्चों के एडमिशन को लेकर आयु सीमा निर्धारित की गई है।

नई शिक्षा नीति के अनुसार नई गाइडलाइन

मध्य प्रदेश में नर्सरी एडमिशन के लिए बच्चों की उम्र 3 साल कर दी गई है। एडमिशन को लेकर शिक्षा विभाग ने सभी कलेक्टर डीईसी और डीपीसी को आदेश जारी किए हैं। इस नई गाइडलाइन के अनुसार, प्राइवेट स्कूलों को भी बच्चों की उम्र का ध्यान देना होगा। नियम के अनुसार, नर्सरी से पहले बच्चों को प्ले नर्सरी भी कराई जाएगी। यह नीति अन्य राज्यों में भी लागू हो रही है और उन्हें भी इसे पालन करना होगा।

मध्य प्रदेश में बच्चों का एडमिशन की आयु सीमा क्या है

मध्य प्रदेश में बच्चों की स्कूल में एडमिशन के लिए आयु सीमा को लेकर बड़ी घोषणा कर दी गई है। अब नई शिक्षा नीति के अनुसार 1 अप्रैल 2024 से बच्चों की आयु सीमा के अनुसार उनका एडमिशन स्कूलों में किया जाएगा। नई शिक्षा नीति के अनुसार बच्चों का एडमिशन नर्सरी में करने के लिए बच्चों की न्यूनतम आयु सीमा 3 वर्ष होनी चाहिए और अधिकतम आयु सीमा 4 वर्ष 6 महीने होने अति आवश्यक है।

kg1 कक्षा के लिए बच्चों की न्यूनतम आयु 4 साल होनी चाहिए। और अधिकतम आयु सीमा 5 वर्ष 6 महीने होने चाहिए। और kg2 कक्षा के लिए बच्चों के न्यूनतम आयु सीमा 5 वर्ष होनी चाहिए। और अधिकतम आयु सीमा 6 वर्ष 6 महीने होनी जरूरी है। इसके अलावा क्लास फर्स्ट में बच्चों की न्यूनतम आयु सीमा 6 वर्ष होनी चाहिए और अधिकतम आयु सीमा 7 वर्ष 6 महीने होने बहुत जरूरी है। नई शिक्षा नीति के अनुसार बच्चों को आयु सीमा के हिसाब से एडमिशन दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – मध्य प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों की खुली किस्मत, शासन को लिखा पत्र केंद्र के समान मिलेगा महंगाई भत्ता

कम उम्र में बच्चों का एडमिशन पर रोक

अब नर्सरी एडमिशन को लेकर सरकार की तरफ से यह गाइडलाइन जारी कर दी गई है। अगर आपके बच्चे की उम्र 3 साल से कम है तो उसका एडमिशन नर्सरी में नहीं किया जाएगा। जैसा कि सभी जानते हैं मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति को जारी कर दिया गया है। और नई शिक्षा नीति के अनुसार अब कम उम्र के बच्चों को स्कूल में एडमिशन नहीं दिया जाएगा। जो अभिभावक इस नियम का पालन नहीं करेंगे उनकी आयु सीमा निर्धारित कर दी गई है। कम आयु के बच्चों को स्कूल में एडमिशन करवाने के लिए अभिभावक जाते हैं तो उन अभिभावकों को साफ मना कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – मोहन सरकार ने की बड़ी घोषणा, राज्य के कर्मचारियों को मिलेगा नई संविदा नीति का लाभ

Author

Leave a Comment

Your Website