मोहन यादव बना रहे हैं अपनी अलग पहचान, 45 दिनों में ही बदल दिए शिवराज के कामों के नामों निशान  

मध्य प्रदेश की मोहन यादव सरकार ने प्रदेश में अपने 45 दिनों के कार्यकाल को पूरा कर लिया है। इन 45 दिनों के कार्यकाल में CM डॉ मोहन यादव ने कई अहम फैसले लिए हैं जिससे पूर्व शिवराज सरकार के कामों का नामों निशान मिट गया है और CM डॉ मोहन यादव ने प्रदेश में अपनी एक अलग पहचान बनाने की शुरुआत कर दी है। 

प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने कई हैरान कर देने वाले कदम उठाए हैं जिसको जनता के बीच काफी सराहा जा रहा है। CM मोहन यादव द्वारा किए गए चार महत्वपूर्ण बदलाव जो प्रदेश के बीच काफी कारगर साबित हो रहे हैं और जनता उनकी जमकर तारीफ कर रही है। 

प्रदेश सरकार द्वारा किए गए बदलाव के बाद से यह भी सवाल उठ रहे हैं कि क्या CM डॉ मोहन यादव पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कामों की निशानियों को खत्म करने जा रहे हैं। यदि आपको नहीं पता तो हम आपको बताते हैं CM डॉ मोहन यादव द्वारा किए गए चार बड़े बदलाव। 

45 दिनों में सरकार के चार बड़े बदलाव 

मध्य प्रदेश में सरकार बनते ही मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने प्रदेश के विकास कार्यों को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी निभाना शुरू कर दी है। प्रदेश में मोहन यादव सरकार को गठित हुए 45 दिन बीत चुके हैं, इन 45 दिनों में CM डॉ मोहन यादव ने प्रदेश में चार बड़े बदलाव किए हैं: 

  • BRTS को राजधानी से हटाना 
  • अधिकारियों पर सख्त कार्यवाही 
  • दो विभागों का एकीकरण 
  • मध्य प्रदेश गान पर खड़े होने के नियम में बदलाव  

BRTS को राजधानी से हटाना 

राजधानी भोपाल में BRTS कॉरिडोर का निर्माण कार्य पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कार्यकाल में किया गया था जिसमें करोड़ों रुपए का खर्चा आया था, पर इसके बनने से काफी दुर्घटनाएं हो रही थी साथ ही इसकी औचित्य पर भी सवाल खड़े हो रहे थे, जिसके बाद इन BRTS को राजधानी से हटाने की तैयारी बन रही थी पर इनको मोहर के साथ स्वीकृति नहीं मिल पा रही थी।  

CM डॉ मोहन यादव ने सरकार बनते ही सबसे पहले इसी मामले को सुनवाई में लिया और दूसरी बैठक में BRTS को राजधानी भोपाल से हटाने के निर्देश जारी कर दिए। भोपाल में BRTS को हटाने का कार्य 20 जनवरी से आरंभ हो चुका है। 

अधिकारियों पर सख्त कार्यवाही 

प्रदेश में जब तक सीएम शिवराज की सरकार थी तब तक अधिकारी जनता पर अपनी मनमानी करते थे लेकिन CM डॉ मोहन यादव ने सबकी लगाम कसने के लिए गुना से लेकर शाजापुर तक के अधिकारियों के ऊपर मनमानी करने पर सख्त कार्यवाही करने के निर्देश जारी किए हैं, साथ ही उन्होंने बताया कि जनता से गलत सलूक करने पर अधिकारियों को माफ नहीं किया जाएगा, यह सरकार आम लोगों की है।

इसे भी पढ़ें –  पहले में होटलों में काम किया करता था, अब प्रदेश का मुख्यमंत्री हूँ – CM डॉ मोहन यादव

दो विभागों का एकीकरण 

प्रदेश में चिकित्सा शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलग-अलग थे, साथ ही इन विभागों के मंत्री भी अलग-अलग ही निर्धारित थे पर, CM डॉक्टर मोहन यादव ने बीते मंगलवार को इन दोनों विभागों का एकीकरण करने का निर्णय लिया है। अब चिकित्सा शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग एक ही है। 

मध्य प्रदेश गान में खड़े होने के नियम में बदलाव  

CM डॉ मोहन यादव के 45 दिनों के कार्यकाल में जो बड़े बदलाव किए गए उनमें से एक यह बदलाव भी है जिसकी प्रदेश में जमकर प्रशंसा की जा रही है। दरअसल लगभग 3 महीने पहले पूर्व सीएम शिवराज ने मध्य प्रदेश गान को सम्मान देने के लिए लोगों को खड़े होने के निर्देश दिए थे, जिसमें बदलाव करते हुए CM डॉ मोहन यादव ने 25 जनवरी को मध्य प्रदेश गान पर खड़े होने के नियम में लोगों में बैठने को कहा, साथ ही उन्होंने कहा कोई भी गान राष्ट्रगान से बड़ा नहीं है सिर्फ उसमें ही खड़ा होना चाहिए।

इसे भी पढ़ें –  लाडली बहना योजना से सभी महिलाओं का कटेगा नाम, सिर्फ इन्हें मिलेगा 5 सालों तक लाभ

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

Leave a Comment

Your Website