MP News: मध्य प्रदेश सरकार की बैठक खत्म, शिक्षकों और कर्मचारियों को सौगात, इन प्रस्तावों को मिली मंजूरी

मोहन कैबिनेट में कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है, सिंचाई क्षेत्र में अहम फैसले लिए गए हैं. राजगढ़ की मोह खेड़ा सिंचाई परियोजना को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है. कैबिनेट ने सिंचाई योजना को भी मंजूरी दे दी है. अब पैरामेडिकल काउंसिल की जगह एलाइड हेल्थ केयर काउंसलिंग भी बनाई जाएगी। 29 फरवरी को 177000 करोड़ रुपये से ज्यादा की सौगात मिलने वाली है. मल्हारगढ़ उद्वहन सिंचाई परियोजना की प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त हो गई है।

आचार्य विद्यासागर जी को श्रद्धांजलि

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉक्टर मोहन यादव जी के अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक संपन्न हुई। जिसमें सबसे पहले बहुत ही महान संत आचार्य विद्यासागर जी के शरीर त्यागने पर उन्हे विनम श्रद्धांजलि अर्पित की गई, दो मिनट का मौन भी रखा गया। इसके प्रति दुख भी प्रकट किया गया साथ ही अयोध्या में भगवान रामलाला का मंदिर विशेषकर हमारे सांस्कृतिक गौरव को बढ़ाने वाला है।

भोपाल में मोहन कैबिनेट ने कई महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर मुहर

इसमें अशोक नगर की तहसील मुंगावली में बेतवा नदी पर है। इसमें जेपी बिना पावर द्वारा निर्मित बैराज के जल को लिफ्ट किया जाएगा। इसमें लगभग परियोजना में बंगाली तहसील के 26 ग्रामों में से के 26 ग्रामों में 7500 हेक्टर में सिचाई हो सकेगी। यह गुना जिले का बहुत महत्त्वपूर्ण किसानों के लिए योजना है। मध्य प्रदेश में इंदौर उज्जैन रोड है अभी फोर लेन है। उसको सिक्स लोन करने का निर्णय लिया है। और ऐसे ही उज्जैन और और इंदौर के बीच में एक हाथों से पैरलल रोड की भी तैयारी चल रही है।

पैरामेडिकल स्टाफ के लिए यूनिवर्सिटी के पाठ्यक्रम की स्थापना का प्रस्ताव मंजूर

कैबिनेट की बैठक के बाद विश्वविद्यालय चिकित्सा में चिकित्सा नर्सिंग आयुर्वेद, यूनानी, होम्योपैथी, नेचुरोपैथी आदि के पाठ्यक्रम संचालित किए जाएंगे। इसमें पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या भी काफी बड़ी है। क्योंकि अब लोगों का कोविड के बाद से इन सब विधि के अंदर नर्सिंग और पैरामेडिकल दोनों विधाओं के प्रति जागरूकता बहुत बढ़ गई। और इसकी आवश्यकता भी बहुत ज्यादा बढ़ गई।

उज्जैन में सिंहस्थ

जैसा कि मध्य प्रदेश में आप सभी जानते हैं कि उज्जैन में कार्तिक मेला काफी समय से लगता आ रहा है। और पर इस बार यहां राजा विक्रमादित्य के समय से विक्रम संवत्सर चालू था। अभी भी है पर उसको और बनाने के लिए मुख्यमंत्री जी ने काफी पहले से विक्रम महोत्सव मनाते आ रहे हैं। उसमें सुबह से ही सिपरा नदी के किनारे लोग सूर्य की आराधना करते हैं। और इस बार विक्रम उत्सव व्यापार मेला आयोजित करने का निर्णय लिया गया। उज्जैन में सिंहस्थ 12 साल में एक बार होता है और उसके तैयारी भी पहले से ही करते हैं। मुख्यमंत्री जी ने इसमें दो बैठक ले ली है और इस पर भी ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें – मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ सरकार ने किया आधिकारिक ऐलान, इन योजनाओं की राशि और तारीख में हुआ फेरबदल

ई शिक्षा नीति लागू

मध्य प्रदेश आप जानते हैं कि देश के प्रधानमंत्री ने नई शिक्षा नीति लागू की है। उसमें शिक्षा की गुणवत्ता और ऑटोनोमस कैसे काम कर सके, इसके ऊपर जोर दिया गया है। सबसे पहले नए क्रांति सूर्य टाटा टंट्या मामा भील विश्वविद्यालय जो कि देवी अहिल्या विश्वविद्यालय को विभाजित कर कर किया जाएगा। इसका स्थान होगा खरगोन और इसमें कौन-कौन से जिले लिए जाएंगे। इसके ऊपर बाद में निर्णय लिया जाएगा। उसी प्रकार एक नया विश्वविद्यालय क्रांतिवीर तात्या टोपे विश्वविद्यालय जो गुना के क्षेत्राधिकार में होगा और यह भी विश्वविद्यालय ग्वालियर विश्वविद्यालय से विभाजित होकर बनेगा। और इसके ऊपर निर्णय बाद में लिया जाएगा पर दो नए विश्वविद्यालय बनाने का निर्णय कैबिनेट में लिया गया है।

यह भी पढ़ें – CM मोहन यादव की पहल, मध्य प्रदेश के श्योपुर में शुरू हुई देश की पहली चीता सफारी

Author

Leave a Comment

Your Website