MP पटवारी भर्ती परीक्षा को मिली क्लीन चिट, परीक्षा नतीजों के आधार पर भर्ती का दिया गया आदेश  

हाल ही में मध्य प्रदेश के पटवारी भर्ती परीक्षा से जुड़ा बड़ा मामला सामने आया है। दरअसल मध्य प्रदेश की पटवारी भर्ती परीक्षा पर कुछ समय पहले गंभीर आरोप लगाए गए थे, जिस पर अब मध्य प्रदेश सरकार द्वारा बनाई गई समिति ने कर्मचारी चयन मंडल को पटवारी भर्ती परीक्षा से जुड़े गड़बड़ी के मामले में जांच करके क्लीन चिट दे दी है, जिसके बाद अब गुरुवार 15 फरवरी को सामान्य प्रशासन विभाग की तरफ से परीक्षा परिणाम के आधार पर भर्ती करने के निर्देश जारी किए गए हैं। 

बता दे की काफी समय पहले पटवारी भर्ती परीक्षा के परिणाम विभाग द्वारा घोषित किए गए थे, जिसके ऊपर गंभीर आरोप लगाए गए थे जिसके बाद विभाग द्वारा पटवारी के परीक्षा परिणाम को विभागीय जांच होने तक होल्ड पर रख दिया गया था। शिवराज सरकार द्वारा जांच के लिए समिति का गठन किया गया जिसके बाद जांच का समय बार-बार बढ़ते बढ़ते 31 जनवरी तक पहुंच गया। आयोग द्वारा जांच के बाद पटवारी भर्ती परीक्षा को क्लीन चिट देकर पटवारी भर्ती के निर्देश दे दिए गए हैं। 

पटवारी परीक्षा में गड़बड़ी को क्लीन चिट 

दरअसल पटवारी भर्ती परीक्षा का ग्रुप 2, सब ग्रुप 4 के रिजल्ट जारी होने के बाद से भर्ती परीक्षा पर गंभीर आरोप के काले बादल छा गए थे। सवाल यह उठा था कि टॉप 10 में से 7 अभियार्थी ग्वालियर के एक ही सेंटर एनआरआई कॉलेज के थे, जिस वजह से विभाग पर गड़बड़ी और पक्षपात के आरोप लगे, जिस पर आयोग द्वारा की गई जांच की रिपोर्ट में बताया गया कि सिर्फ एक ही केंद्र के अभ्यर्थियों ने टॉप नहीं किया बल्कि दूसरे सेंटर में भी बड़ी संख्या में अभ्यर्थी मेरिट लिस्ट में आए हैं। हालांकि विभागीय जांच के बाद पटवारी भर्ती परीक्षा को क्लीन चिट दे दी गई।  

रिजल्ट के आधार पर होगी नियुक्ति 

पटवारी भर्ती परीक्षा पर लगे गड़बड़ी के आरोपों को अब क्लीन चिट मिल गई है जिसके बाद राज्य सरकार की तरफ से पटवारी भर्ती परीक्षा के जारी रिजल्ट के आधार पर भर्ती करने के आदेश दिए गए हैं। बता दें फरवरी माह के अंत तक अब भर्ती परीक्षा के चयनित अभ्यर्थियों को राज्य सरकार की तरफ से जॉइनिंग लेटर प्रदान किए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें –  राजीव गांधी विश्वविद्यालय भोपाल में निकली बिना परीक्षा भर्ती, जल्दी करें आवेदन

विपक्ष की सीबीआई जांच की मांग 

राज्य के पटवारी भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी के मामले में विभागीय जांच के उपरांत क्लीन चिट प्रदान की कर दी गई है, जिस पर अब विपक्ष कांग्रेस सरकार सियासत करती नजर आ रही है। कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव ने इस क्लीन चिट पर सवाल उठाते हुए कहा है कि सरकार ने जांच के नाम पर केवल खानापूर्ति की है। पटवारी भर्ती परीक्षा में घोटाला हुआ है और अभ्यर्थियों के साथ अन्याय किया गया है, उन्होंने मांग की है कि पटवारी भर्ती परीक्षा घोटाले की सीबीआई जांच की जाए। 

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

    View all posts

Leave a Comment

Your Website