MP News: मोहन सरकार की पांचवीं कैबिनेट बैठक संपन्न, सरकारी कर्मचारियों के लिए प्रस्ताव तैयार

मध्य प्रदेश में मोहन सरकार की पांचवी कैबिनेट बैठक संपन्न हो चुकी है और इस बैठक में सरकारी में कर्मचारियों के महंगाई भत्ते सहित विभिन्न योजनाओं पर चर्चा की गई जिसमे सबसे ज्यादा चर्चा का विषय स्वास्थ्य और चिकित्सा विभाग है। क्या है पूरा मामला आज हम यहां विस्तार से जानेंगे।

मोहन सरकार की पांचवीं कैबिनेट बैठक

मुख्यमंत्री मोहन यादव जी की अध्यक्षता में पांचवी कैबिनेट बैठक संपन्न हो चुकी है इस बैठक में कई प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है जिसमें स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और चिकित्सा शिक्षा विभाग के विलय को मंजूरी मिली न्याय विभाग का नामकरण भी किया गया इसके साथ ही नई शिक्षा नीति के आधार पर राज्य के हर जिले में एक्सीलेंस कॉलेज खोले जाने का निर्णय भी बैठक द्वारा लिया गया।

शहरी विकास मंत्री कैलाश विजयवर्गीय जी ने लोक स्वस्थ एवं परिवार कल्याण विभाग और चिकित्सा शिक्षा विभाग के विलय के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इन दोनों विभागों के विलय से काम करने की क्षमता बढ़ जाएगी और मेडिकल कॉलेज के साथ अस्पताल के बीच जो समन्वय की स्थिति नहीं रहती थी अब वह दूर हो जाएगी। और निश्चित तौर पर इसका लाभ प्रदेश की जनता को मिलने वाला है।

मोहन सरकार की कैबिनेट बैठक में इन फैसलों को लिए जाने से शिक्षा मृत्यु दर, मातृ मृत्यु दर भी काम होगा। और प्रभावी मॉनिटरिंग भी की जा सकेगी। इसके साथ ही मेडिकल कॉलेज की उच्चतम सुविधाओं का लाभ स्वास्थ्य केंद्रों में दिया जा सकेगा। इसके साथ ही अस्पतालों को मेडिकल कॉलेज से संबंध करना आसान होगा जिससे स्वास्थ्य एवं विभागीय योजनाओं की बेहतर नियंत्रण एवं क्रियान्वयन में सुविधा होगी।

सरकारी कर्मचारियों के लिए प्रस्ताव तैयार

राज्य के सरकारी कर्मचारियों को हर महीने की 1 तारीख को ही वेतन भुगतान किया जाएगा यह निर्णय भी कैबिनेट बैठक में लिया जा चुका है रुके हुए सभी वेतनमान का भुगतान भी हो जाएगा और सरकारी कर्मचारियों को वेतन संबंधी किसी भी तरह की समस्याओं का सामना अब नहीं करना पड़ेगा क्योंकि इंदौर कलेक्टर ने भी इस बात के लिए पहल की जिसका प्रस्ताव मंजूर हो चुका है।

यह भी पढ़ें – केंद्रीय सरकार अपने कर्मचारियों पर फिर मेहरबान, मिलेंगे 3 बड़े उपहार साथ ही DA में होगी 4% वृद्धि

सरकारी कर्मचारियों के लिए लगातार महंगाई भत्ते में की जा रही मांग को देखते हुए भी कैबिनेट में प्रस्ताव तैयार कर लिया है और यह उम्मीद है कि लोकसभा चुनाव के पहले सरकारी कर्मचारियों को महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी हो सकती है। सूत्रों से यह खबर सामने आई है कि महंगाई भत्ते में सरकार ने 4 प्रतिशत बढ़ोतरी के बारे में विचार किया।

Author

Leave a Comment

Your Website