MP Ladli Bahna Yojana Sweekrati Patra 2023 – मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना स्वीकृति पत्र जारी

MP Ladli Bahna Yojana Sweekrati Patra 2023 – मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना स्वीकृति पत्र जारी। लाडली बहना योजना के इस स्वीकृति पत्र सभी बहनों को आवश्य प्राप्त करना चाहिए। आज हम आपको इस स्वीकृति पत्र और लाडली बहना योजना के शुभकामना संदेश के बारे में विस्तृत जानकारी लेकर आए है जिससे आपको काफी मदद मिलने वाली है।

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना 2023 – स्वीकृति पत्र

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना का स्वीकृति पत्र सभी बहनों को प्राप्त करना चाहिए। स्वीकृति पत्र प्राप्त करने के लिए पंचायत, नगर पालिका या शिविर केंद्र में आप संपर्क कर सकते है। हाल ही में कैबनिट मीटिंग के दौरान यह निर्धारित किया गया था कि विभिन्न क्षेत्रों में विधायक और मंत्रियों द्वारा सभाएं आयोजित की जाएगी और लाडली बहना योजना का स्वीकृति पत्र प्रदान किए जाएंगे।

लाडली बहना योजना का स्वीकृति पत्र 1 जून से 8 जून तक वितरित किया जाएगा। महिलाएं इस स्वीकृति पत्र को नजदीकी पंचायत में जाकर प्राप्त कर सकती हैं। स्वीकृति पत्र प्राप्त होने से यह सुनिश्चित हो जाता है कि आप लाडली बहना योजना के प्रावधानों के अंतर्गत आर्थिक स्वावलंबन, पोषण, और स्वास्थ स्तर में सतत सुधार हेतु 1 हजार रूपए की राशि प्रतिमाह प्राप्त करने के लिए पात्र हैं।

यह भी पढ़ें – मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना पंचायत से दिए गए महत्त्वपूर्ण दस्तावेज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का शुभकामना संदेश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी लाडली बहनों के लिए एक शुभकामना संदेश जारी किया है आप इस संदेश को नीचे देख सकते है या स्वीकृति पत्र के साथ दी जाने वाली पुस्तिका में देख सकते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का स्वीकृति पत्र इस तरह है।

“मेरी बहनो, आपके हाथों में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना’ का यह स्वीकृति पत्र सौंपते हुए, मेरा मन अति प्रसन्न है। इस योजना के माध्यम से अब हर महीने आपके खाते में ₹ 1000 डाले जा रहे है। यह योजना मैंने महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए ही बनाई है। बहनें सशक्त होंगी, तो परिवार, समाज, प्रदेश और देश भी सशक्त होगा।

हम आज़ादी का अमृत महोत्सब मना रहे हैं और इस अमृत काल में “मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना” आरंभ हुई है। बहनो, यह कोई योजना नहीं, बल्कि एक सामाजिक क्रांति का शंखनाद है।

‘मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना’ प्रारम्भ करने का उद्देश्य बहनों को स्वावलम्बी एवं आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाना है। इसके लिए स्वरोजगार/ आजीविका के संसाधनों को विकसित किया जा रहा है। आपके आश्रित बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में सतत् सुधार बनाये रखना और परिवार स्तर पर निर्णय लिये जाने में आपकी प्रभावी भूमिका को प्रोत्साहित करना भी हमारा लक्ष्य है।

मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना मेरे दिल से निकली हुई योजना है। मैंने सही मायने में आपकी अनमोल राखी का उपहार आप सबको दिया है। मैं यह भी कहना चाहूँगा कि आपने मुझे जो स्नेह दिया और भरोसा किया है, उसे मैं कभी टूटने नहीं दूंगा। बहनों के जीवन को सरल, सुखद और आनंददायी बनाना ही मेरे जीवन का ध्येय है। आपका भाई, शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री”

यह भी पढ़ें – PM Kisan Yojana: पीएम किसान सम्मान निधि योजना 14वीं किस्त की राशि चेक करें

इस तरह लाडली बहना योजना में शिवराज सिंह ने सभी बहनों को यह संदेश और शुभकामना इस संदेश के माध्यम से दिया है। इस ब्लॉग पोस्ट पर आगे हम लाडली बहना योजना स्वीकृति पत्र के साथ दी जाने वाली पुस्तिका में दर्ज अन्य जानकारी के बारे में विस्तार से समझने वाले हैं।

मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का उद्देश्य

  • महिलाओं का आर्थिक स्वावलंबन
  • उनके स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में सतत सुधार एवं उसे बनाये रखना
  • परिवार के निर्णयों में उनकी भूमिका सुदृढ करना

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना पात्रता

  • मध्यप्रदेश की स्थानीय निवासी महिला
  • परिवार की समस्त विवाहित महिला (विधवा, तलाकशुदा एवं परित्यक्तता सहित)
  • 23 वर्ष की आयु पूर्ण कर ली हो, लेकिन 60 वर्ष की आयु पूर्ण न की हो

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना सहायता

  • प्रति माह 1000 रुपये की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।

यह भी पढ़ें – लाड़ली बहना योजना बधाई पत्र जारी, 10 जून से पहले प्राप्त करें

मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना शर्तें / अपात्रता

ऐसी महिला जो स्वयं अथवा जिनके परिवार में-

  • स्वघोषित वार्षिक आय 2.5 लाख से अधिक हो, आयकरदाता हो
  • शासकीय विभाग/उपक्रम/मण्डल/स्थानीय निकाय में नियमित/स्थायीकर्मी/संविदाकर्मी हो रही होया पेंशन प्राप्त हो
  • जनजातीय कार्य विभाग की आहार अनुदान योजना अंतर्गत लाभान्वित वर्तमान अथवा भूतपूर्व सांसद / विधायक हो
  • प्रदेश सरकार के निगम/मंडल द्वारा मनोनीत बोर्ड का अध्यक्ष या सदस्य हो
  • स्थानीय निकायों में निर्वाचित जनप्रतिनिधि (पंच एवं उपसरपंच को छोड़कर) हो
  • संयुक्त रूप से कुल पांच एकड़ या उससे अधिक कृषि भूमि हो
  • पंजीकृत चार पहिया वाहन (ट्रैक्टर सहित) हो।

 और अधिक पढ़ें

Author

Leave a Comment

Your Website