MP NEWS: मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों से अतिथि शिक्षकों को हटाने का भोपाल से निर्देश जारी

जिला शिक्षा अधिकारियों के आदेश के अनुसार भोपाल से अलग-अलग जिलों में चल रही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के अनुसार अतिथि शिक्षकों को स्कूल और पोर्टल से हटाने का निर्देश जारी किया गया है। आदेश के अनुसार नये शिक्षकों के आने पर उनके विषय के अतिथि शिक्षकों को तत्काल निकाला जाएगा। जिससे कई अतिथि शिक्षक चिंतित हैं। लोक शिक्षण संचनालय से आयोजित VC दिनांक 8 जनवरी 2024 में दिए गए निर्देश के अनुसार उसमें क्लियर हो चुका है कि जो भी अतिथि शिक्षक स्कूल जा रहे थे वह ना जाएं।

स्कूल एवं पोर्टल से अतिथि शिक्षको को हटाने के लिए आदेश जारी

मध्य प्रदेश भोपाल से अब अतिथि शिक्षकों को हटाया जाएगा। क्योंकि जिन विषयों पर अतिथि शिक्षक पढ़ा रहे थे। उन विषयों पर नए शिक्षक नियुक्त हो रहे हैं इसलिए अतिथि शिक्षकों को हटाया जा रहा है। अतिथि शिक्षक क्या करें कहां जाएं रोजी रोटी का संकट समायोजन की मांग कर रहे थे। लेकिन समायोजन ना करके निर्देश दिए गए हैं कि इनको हटा दिया जाए। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा यह घोषणा की गई थी कि 20 सत्र में किसी को नहीं निकाला जाएगा।

अतिथि शिक्षकों के हटाए जाने का कारण

अतिथि शिक्षकों को प्रमोशन के कारण हटाया जा रहा है, जो पहले पोर्टल पर नाम चढ़ाने के बाद अब पोर्टल से भी कार्य मुक्त किए जा रहे हैं। आदेश में यह भी कहा गया है कि वहां जहां पर नए शिक्षक आए हैं या प्रमोशन से आए हैं। उन अतिथि शिक्षकों को हटाया जाएगा जो काम कर रहे थे। अतिथि शिक्षक किस तरह कठिनाईयों का सामना कर रहे हैं और उन्हें समायोजन की मांग करते हुए भी आदेश दिए गए हैं कि उन्हें हटा दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें – क्या वाकई बंद होगी लाड़ली बहना योजना, आठवीं किश्त देने में हुई मोहन सरकार की हालत ख़राब

लोक शिक्षण संचनालय से आयोजित VC दिनांक 8 जनवरी 2024 में दिए गए निर्देश

लोक शिक्षण संचनालय से आयोजित VC दिनांक 8 जनवरी 2024 में दिए गए निर्देश के अनुक्रम में स्वीकृत पदों पर नवीन नियुक्ति उच्च प्रभार या स्थानांतरण से यदि शिक्षक उपस्थित हो चुके हैं। और उस पद के विरुद्ध अतिथि शिक्षक भी कार्यरत है। तो ऐसे अतिथि शिक्षक को तत्काल GFMS पोर्टल से हटाए जाने की कार्रवाई सुनिश्चित करें। यदि कोई अतिथि शिक्षक नवीन नियुक्ति उच्च प्रभार या स्थानांतरण से पद पूर्ति बाद भी कार्यरत पाए जाते हैं तो संबंधित अतिथि शिक्षक का मानदेश संबंधित संस्था प्रमुख तथा संकुल प्राचार्य के वेतन से काटकर मानदेय भुगतान किया जाएगा।

यह भी पढ़ें – 2 लाख से ज्यादा लाड़ली बहनों को नहीं मिली आठवीं किस्त, देखें क्या है वजह

Author

Leave a Comment

Your Website