लाड़ली बहना योजना मोहन सरकार डालने जा रही है बहनों के खातों में राशि, महिला एवं बाल विकास का आदेश 

मध्य प्रदेश में सुर्खियां बटोर रही लाडली बहना योजना से जुड़ी एक महत्वपूर्ण जानकारी निकलकर सामने आई है, दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं प्रदेश में पहली बार CM डॉ मोहन यादव लाडली बहना योजना की आठवीं किस्त लाभार्थी महिलाओं के DBT अकाउंट में ट्रांसफर करने वाले हैं पर लाडली बहना योजना की राशि डालने से पहले ही एक बड़ा आदेश सामने आया है। 

लाडली बहना योजना की आठवीं किस्त की राशि को लेकर जो अटकलें लगाई जा रही थी कि राज्य सरकार काफी कर्ज में है इसलिए राशि नहीं डाली जाएगी उस पर CM मोहन यादव ने यह साफ कर दिया है की लाडली बहना योजना की आठवीं किस्त की राशि 10 जनवरी को ही डाली जाएगी। लाडली बहन योजना की आठवीं किस्त डालने से पहले ही महिला एवं बाल विकास की तरफ से एक बड़ा आदेश आया है जिसका असर सीधे तौर पर लाडली बहना लाभार्थियों पर पड़ेगा, तो आईए जानते हैं। 

महिला एवं बाल विकास का आदेश 

लाडली बहन योजना की आठवीं किस्त की राशि अपनी निर्धारित तारीख 10 जनवरी को लाभार्थी महिलाओं के बैंक अकाउंट में डाली जाएगी, योजना की राशि डलने से पहले 4 जनवरी को महिला एवं बाल विकास की तरफ से एक आदेश सामने आया है जिसमें डॉ राम राव के हस्ताक्षर सहित यह निर्देश दिए गए हैं कि सभी जिला कार्यक्रम अधिकारी और महिला बाल विकास अधिकारी अपने-अपने जिले की पंजीकृत लाभार्थियों की सूची के आधार पर पोर्टल पर लॉगिन से इ-पेमेंट की स्वीकृति 8 जनवरी 2024 तक कर दें, जिसके बाद ही लाभार्थियों को राशि प्रदान की जाएगी। 

पहली बार करेंगे CM मोहन यादव किस्त जारी 

लाडली बहना योजना के तहत अब तक संपूर्ण 7 किस्तें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा महिलाओं को उपलब्ध कराई गई है, पर अब ऐसा पहली बार होगा जब मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव लाडली बहना योजना के अंतर्गत आठवीं किस्त की राशि पात्र लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करेंगे। 

इसे भी पढ़ें –  इंडियन पोस्ट में निकली 1900 पदों पर बंपर भर्तियां, 10वीं पास भी होंगे आवेदन के योग्य, जाने आवेदन प्रक्रिया 

लाडली बहनों पर पड़ेगा आदेश का बड़ा असर 

महिला एवं बाल विकास की तरफ से आए हुए इस आदेश का असर सीधे तौर पर लाडली बहना योजना की लाभार्थी महिलाओं पर देखने को मिलेगा, क्योंकि आदेश के मुताबिक विभागीय अधिकारियों द्वारा पात्र लाभार्थियों के नाम ही महिला एवं बाल विकास आयोग के पास भेजे जाएंगे जिसमें से अपात्र महिलाओं के नाम साफ तौर पर बाहर कर दिए जाएंगे। 

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

Leave a Comment

Your Website