16 फरवरी को किसान करेंगे “भारत बंद” पूरे देश पर पड़ेगा बुरा असर, ये है किसानों की मुख्य मांगे

भारत सरकार से अपनी मांगों को पूरा कराने को लेकर भारत के किसान लंबे समय से केंद्र सरकार से अनुरोध करते आ रहे हैं लेकिन सरकार किसानों की मांगों को पूरा करने के संबंध में कोई उचित निर्णय लेती नजर नहीं आ रही। सरकार के इसी रवैये से परेशान होकर किसानों ने अब ‘दिल्ली चलो’ मार्च के भी संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत बंद का आह्वान किया है। बता दें किसान संगठन द्वारा लिए गए इस निर्णय का समर्थन कांग्रेस जमकर कर रही है। 

बता दें कि झारखंड की कांग्रेस सरकार ने किसान संगठन द्वारा लिए गए भारत बंद के फैसले का समर्थन करने का ऐलान किया है। एसकेएम ने भारत के अन्य किसान संगठनों से अपील की है कि वह सब 16 फरवरी को भारत बंद में शामिल हो। किसानों ने दिल्ली चलो मार्च के दौरान भारत के संयुक्त किसान मोर्चा ने 16 फरवरी को सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक भारत बंद का आह्वान किया है। 

16 फरवरी को भारत बंद का आह्वान 

केंद्र सरकार से अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा और अन्य ट्रेड यूनियनों द्वारा दिल्ली चलो मार्च के बीच 16 फरवरी को सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक भारत बंद करने का निर्णय लिया गया है। इस दौरान देशभर के किसान विभिन्न राज्यों के मुख्य सड़कों पर दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक जाम करेंगे। भारत बंद का सबसे ज्यादा असर पंजाब में देखने को मिलेगा। देश भर के राष्ट्रीय मार्ग इस दिन घंटे तक बंद रहेंगे। 16 फरवरी को भारत बंद के कारण कृषि गतिविधियों, परिवहन, मनरेगा ग्रामीण कार्य, निजी कार्यालय, ग्रामीण उद्योग सहित सेवा क्षेत्र पर बड़ा असर पड़ेगा, साथ ही यह संस्थान पूरी तरह से बंद रहेंगे। 

यह है किसानों की मांगे

केंद्र सरकार से अपनी मांगों को पूरा करवाने को लेकर भारत के किसान लंबे समय से सरकार से अनुरोध कर रहे हैं, जिस पर सरकार कोई विचार करती नजर नहीं आ रही। आइये जानते हैं किसानों की क्या है मांगे: 

  •  न्यूनतम सफल मूल्य (MSP) के लिए कानून बनाना। 
  •  कृषि ऋण माफ करने की मांग। 
  •  किसान स्वामीनाथन आयोग द्वारा सिफारिश को लागू करवाना। 
  •  किसान पेंशन योजना को लागू करके 60 साल के ऊपर किसानों को ₹10000 महीना पेंशन की मांग। 
  •  श्रम कानून में संशोधन को वापस लेने की मांग। 
  •  भूमि अधिग्रहण अधिनियम 2013 को पूर्व के तरीके से लागू करने और राज्य सरकार के निर्देशों को रद्द करने की मांग।

इसे भी पढ़ें –  सरकारी नौकरी – नगर पालिका में निकली भर्ती, सैलरी 30000 से भी अधिक 64 वर्ष के व्यक्ति भी कर सकते हैं आवेदन

भारत बंद के समर्थन में आई कांग्रेस 

किसानों का अपनी मांगों को पूरा कराने का सरकार से अनुरोध अब आक्रोश में बदलता जा रहा है जिसका फायदा विपक्ष बहुत तेजी से उठा रहा है। बता दें कि झारखंड की कांग्रेस सरकार ने किसानों के इस फैसले का समर्थन करने की घोषणा की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर द्वारा झारखंड राज्य के सभी जिला अध्यक्षों एवं पद अधिकारियों को निर्देश जारी करते हुए कहा गया है कि प्रत्येक जिले में भारत बंद का समर्थन करने को लेकर जागरूकता फैलाई जाए। 

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

    View all posts

Leave a Comment

Your Website