DA Hike: लोकसभा चुनाव से पहले कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, DA- में वृद्धि और एरियर का भी मिलेगा लाभ

केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनरों के लिए एक अच्छी खबर है। लोकसभा चुनाव से पहले केन्द्र की मोदी सरकार कर्मचारियों-पेंशनरों को साधने के लिए कई बड़े फैसले ले सकती है। खबर है कि होली से पहले कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 4 फीसदी बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा हाउस रेंट अलाउंस, फिटमेंट फेक्टर और 18 महीने के बकाया डीए एरियर पर भी कोई अहम फैसला लिया जा सकता है। अगर ऐसा हुआ तो सैलरी और पेंशन में 20 हजार से 70 हजार की वृद्धि देखने को मिलेगी। हालांकि इसकी अभी अधिकारिक पुष्टि होना बाकी है।

डीए में 4% की वृद्धि

श्रम मंत्रालय ने जुलाई से नवंबर तक के AICPI इंडेक्स के आंकड़े जारी करने के बाद संभावना जताई है कि होली के आसपास एक बार फिर केन्द्रीय कर्मचारियों-पेंशनरों के डीए में 4% की वृद्धि हो सकती है। वर्तमान में 46% डीए का लाभ मिल रहा है, जो बढ़कर 50% हो जाएगा। नई दरें जनवरी 2024 से लागू होंगी, जिससे जनवरी और फरवरी के एरियर भी मिलेगा और मार्च की सैलरी में इसका लाभ मिलेगा, जो अप्रैल में आएगा। इस योजना से 48 लाख कर्मचारियों और 69 लाख पेंशनभोगियों को लाभ हो रहा है।

कर्मचारियों को 50% डीए दिया जाए

अगर नई दरों पर डीए 50% तक पहुंचता है, तो कर्मियों की सैलरी रिवाइज होगी। केन्द्र सरकार ने 7वें वेतन आयोग के साथ ही DA के रिवाइजन के नियमों को तय किया था कि डीए 50% होने पर शून्य हो जाएगा, जिसे मौजूदा बेसिक सैलरी में जोड़कर दिया जाएगा और डीए की गणना शून्य से शुरू होगी। अंतिम फैसला मोदी सरकार को करना होगा, कि कर्मचारियों को 50% डीए दिया जाए या सैलरी के लिए कोई नया फॉर्मूला लागू किया जाए। HRA और TA अलाउंस में भी वृद्धि देखने को मिलेगी।

डीए के अलावा, मोदी सरकार फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाने पर कोई फैसला ले सकती है। वर्तमान में केंद्रीय कर्मचारियों का फिटमेंट फैक्टर 2.57 है और 7वें वेतनमान के तहत इसी आधार पर सैलरी दी जा रही है। लेकिन कर्मंचारी संघ लंबे समय से इसे बढ़ाने की मांग कर रहे हैं, ऐसे में संभावना है कि सरकार फिटमेंट फैक्टर संशोधन पर विचार कर सकती है, इसे 3.00 फीसदी या 3.68 फीसदी तक किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव के पहले बीजेपी ने खेला दाव, अब NDA में शामिल होंगी यह पार्टी

अगर ऐसा हुआ तो बेसिक सैलरी 18,000 से बढ़कर 21,000 हो जाएगी, इस तरह अलग-अलग लेवल के कर्मचारियों की सैलरी में अलग-अलग वृद्धि होगी। उदाहरण के तौर पर, यदि किसी केंद्रीय कर्मचारी की बेसिक सैलरी 18,000 रुपये है, तो भत्तों को छोड़कर उसकी सैलरी 46,260 रुपये होगी जबकि 3 गुना फिटमेंट फैक्टर होने पर सैलरी 63,000 रुपये होगी। सरकार ने 2016 में फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाया था और इसी साल से 7th pay commission को भी लागू किया गया था।

यह भी पढ़ें – MP News: इन 6 जिलों से होकर गुजरेगी रेलवे लाइन, रास्ते में आने वाली जमीन मालिकों को मुफ्त मिलेगी सरकारी नौकरी

Author

Leave a Comment

Your Website