MP News: CM मोहन यादव ने लाडली बहनों को दिया तोहफा, लेकिन दूसरी तरफ मछली बेचने वालों की 25000 दुकानें हटाई

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव जी ने लाडली बहना योजना के तहत अब बहनों को एक बहुत अच्छा तोहफा देने जा रहे हैं 10 जनवरी को वह सभी बहनों के खाते में 1250 रुपए की राशि जमा करेंगे लेकिन दूसरी तरफ छोटा-मोटा रोजगार और मछली की दुकान लगाने वालों के लिए बहुत ही बुरी खबर सामने आई है अब तक टोटल 25000 से ज्यादा दुकान है हटा दी गई हैं।

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव के बाद 13 दिसंबर को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद ही राज्य में खुले में मांस और मछली की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का निर्देश दिया गया और मुख्यमंत्री जी द्वारा पिछले 25 दिनों में खुले में मानसर मछली बेचने वाली 25000 से ज्यादा दुकानें बंद कर दी गई है।

मुख्यमंत्री जी ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री मोहन यादव जी ने उज्जैन में 2018 करोड रुपए के विकासात्मक परियोजना का शिलान्यास और उद्घाटन करने की पश्चात यह कहा कि मैंने निर्देश दिया कि खुले में मानसून मछली भेजने वाली दुकानों को हटाया जाना चाहिए और आज राज्य में खुले में मांस और मछली बेचने वाली दुकानों को हटाया जाना चाहिए और आज राज्य में लगभग 25000 से ज्यादा दुकान हटा दी गई है। मुख्यमंत्री जी ने यह भी कहा कि राज्य में विकास कार्य जारी रहेंगे और इसमें किसी भी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा।

हालांकि मुख्यमंत्री जी की इस फैसले से मांस और मछली बेचने वाले परिवार बेहद दुखी है क्योंकि उनका रोजगारइस पर निर्भर करता है और अगर इस तरह से मांस मछली बेचने पर प्रतिबंध लगाया जाता है तो हजारों लोगों के रोजगार और रोजी-रोटी पर असर पड़ेगा। इसके साथ ही लाउडस्पीकर और डीजे बजाने पर प्रतिबंध लगने के बाद भी हजारों डीजे मालिक और लाउडस्पीकर के मालिकों ने प्रदर्शन कार्य भी किया है।

यह भी पढ़ें – लाड़ली बहना योजना हजारों महिलाओं के खाते में नहीं आएगा 8वीं किश्त, 12 से पहले कर लो यह काम

लाडली बहनों के लिए मनाया जाएगा महिला सशक्तिकरण दिवस

मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा शुरू की गई लाडली बहना योजना अब आगामी 5 वर्षों तक जारी रहेगी। क्योंकि नए मुख्यमंत्री मोहन यादव जी ने इसका कार्यभार संभाल लिया है और अब लाडली बहनों को मोहन यादव जी संबोधित करेंगे और इसी के साथ आठवीं किसी की राशि 10 जनवरी 2024 को जारी करने वाले हैं।

मुख्यमंत्री जी ने यह कहा कि मकर संक्रांति को महिला सशक्ति दिवस के रूप में मनाया जाएगा और उन्होंने शहर में ऐतिहासिक को पौराणिक महत्व को उजागर किया। मतलब कि जिस तरह पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की लाडली बहनों को संबोधित करते थे और हर महीने महिला सशक्तिकरण दिवस के रूप में मनाया करते थे उसी तरह अब नए मुख्यमंत्री जी भी कार्य करेंगे।

यह भी पढ़ें – केंद्र सरकार ने मगरेना मजदूरों के लिए की बड़ी घोषणा, अब सभी को मिलेगा रुका हुआ पैसा

Author

Leave a Comment

Your Website