बिना OTP के आधार नंबर से हो गया बैंक अकाउंट खाली, साइबर ठग का नया तरीका आप भी सतर्क रहें

नमस्कार दोस्तों हम सभी जानते हैं कि बैंक खाते की जानकारी हमें किसी से शेयर नहीं करना चाहिए बैंक से भी हमें समय समय पर मेसेज आते रहते हैं तो हम यही समझ लेते हैं कि हमें ये सब पता है और बैंक में हमारा पैसा सुरक्षित है परन्तु आज के समय में साइबर क्राइम इतना बढ़ गया है कि अब OTP और बैंक खाता की जानकारी के बिना ही आपके बैंक से पैसे निकाले जा सकते हैं। आपको बता दें कि हाल ही में बहुत से इस तरह के मामले हमें देखने को मिल रहे हैं तो चलिए आइये जानते हैं कि कैसे आपको इनसे सतर्कता रखनी है। 

आधार कार्ड नंबर है बहुत महत्वपूर्ण 

सरकार द्वारा आधार कार्ड को बहुत जरुरी दस्तावेज माना जाता है इस वजह से आधार कार्ड को सभी सरकारी कामों में आवश्यक कर दिया गया है। यह एक दस्तावेज बन गया है जिससे आप किसी व्यक्ति की पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं यहाँ तक की आधार कार्ड की मदद से आप बिना बैंक गए पैसे भी निकाल सकते हैं। जी हाँ दोस्तों आधार कार्ड को आप मिनी एटीएम भी कह सकते हैं क्योंकि इससे भी बैंक में जमा पैसे को निकाल सकते हैं। 

आधार कार्ड से ठगों ने ऐसे अपनाया नया तरीका 

ठगी करने वालों ने अब एक नया तरीका निकाल लिया है जी हाँ दोस्तों ठगों ने अब आधार कार्ड को टारगेट करते हुए बैंक से पैसे निकाल रहे हैं। जैसा की हम सब को पता है कि आधार से पैसा निकालने के लिए फिंगरप्रिंट की आवश्यकता होती है और इसके लिए ठगों द्वारा सिलिकॉन के फिंगरप्रिंट बनाए जा रहे हैं और आधार नंबर के लिए डुप्लीकेट फिंगरप्रिंट से बायोमेट्रिक मशीनें का उपयोग किया जा रहा है और फिर उन सिलिकॉन फिंगरप्रिंट की मदद से ठगों द्वारा बिना OTP के ही लोगों को लाखों रुपये का चूना लगाया जा रहा है। 

हाल ही में ऐसे बहुत से मामले हैं जिनमें से एक हम आपके साथ साझा कर रहे हैं जो पुष्पेंद्र सिंह की माँ के साथ यह धोखा धड़ी हुआ “मैं अपनी मां की पासबुक की एंट्री के लिए पंजाब बैंक गया और देखा तो माँ के खाते में जीरो बैलेंस था। मैंने अपनी मां को बताया उन्होंने कहा कि ऐसा कैसे हो सकता है, उन्होंने कहा मैंने कोई पैसा नहीं निकाला है। फिर हमने दोबारा बैंक मैनेजर से बात की उन्होंने चेक किया और बताया कि बिहार में किसी ने आधार कार्ड से जुड़ी बायोमैट्रिक इनफार्मेशन का इस्तेमाल करके खाते से पैसा निकाल लिया है।”

बायोमैट्रिक्स मतलब होता है कि इंसान के अंगूठों, उंगलियों के निशान से लेकर आंखों के रेटिना स्कैन का वो डेटा जो आधार बनाते समय लिया जाता है। इस धोखाधड़ी के चलते पुष्पेंद्र ने यह कहा कि यह कैसे मुमकिन हो सकता है इसका मतलब तो यही है की यह डाटा को रजिस्ट्री ऑफिस से चुराया गया है। आपको बता दें कि उनकी मां के अकाउंट में लगभग 90 हजार रुपये थे और आधार कार्ड से पैसे निकालने की एक लिमिट होती है इस वजह से ठगों द्वारा थोड़ा-थोड़ा करके कई बार में पैसा निकाला गया है। 

आधार पेमेंट सर्विस

आधार पेमेंट सर्विस बैंक से पैसे निकालने का एक तरीका है जो ग्रामीण इलाकों में पैसों की लेन देन के लिए अधिकतर उपयोग किया जाता है ऐसा ही आपने जनसेवा केंद्रों आधार कार्ड से पैसे निकालते देखा होगा यही प्रक्रिया AePS आधार पेमेंट सर्विस कहलाती है। अगर आप अपने आधार कार्ड से पैसे की लेन देन करते हैं तो ही आप आधार पेमेंट सर्विस को इनेबल्ड करिये वरना आप इस सुविधा को आधार एप्प में जाकर इसे बंद कर दीजिये ताकि आपके साथ इस तरह की धोखाधड़ी न हो। 

यह भी पढ़ें – क्या एक से अधिक बैंक खाता होने पर होगा जुर्माना

आज के दौर में डिजिटल पेमेंट करना बहुत आम बात हो गया है। डिजिटल UPI पेमेंट उपयोग करने के मामले में भारत नंबर वन पर है परन्तु डिजिटल पेमेंट आगे बढ़ा है तो साइबर ठगों को भी नए नए विकल्प मिल रहे हैं जिससे वे बैंक अकाउंट में रखे पैसे को चालाकी से निकाल लेते हैं। इसलिए आप अपनी जानकारी को हमेशा गुप्त रखें और जरुरी जगहों पर ही अपने दस्तावेज जमा करें और सतर्क रहें धन्यवाद। 

Author

Leave a Comment

Your Website