About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

Last Updated on 2 years ago

 

 

about history of india in hindi

“प्राचीन भारत”

” मध्यकालीन भारत”

  “आधुनिक भारत” 

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

आधुनिक भारत का इतिहास ब्रिटिश हुकूमत के साथ शुरू हुआ था।  जिसका दौर भारतीय लोगों के लिए काफी कठिन रहा है।  अंग्रेजो ने भारत में अपना कदम व्यापार के दृष्टि कोण से रखा था।  लेकिन यहाँ के लोगो में एकता और समानता के कमी को देखकर धीरे धीरे अपना नींव मजबूत कर लिया।  और फिर राजा महाराजा को अपने अधीन कर अपना शासन शुरू कर दिया है।  

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास 1000

1857 -1947 

1857 का विद्रोह 

नरमपंथी \ उदारवादी चरण  1885 – 1905 

गरम पंथी \ उग्रवादी चरण 1905 – 1917 

गांधीवादी युग 1917 – 1947 

Question और Answer 

1857 का विद्रोह 

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

26 मार्च 1857  को मंगल पांडे नामक एक सैनिक ने बैरकपुर में गाय की चर्बी से बनी कारतूसों को मुँह से कटाने से मना कर दिया था , जिसके चलते उसे गिरप्तार करके 8 अप्रैल 1857 को फांसी पर चढ़ा दिया था।  

मंगल पांडे की फांसी के बाद सैनिकों में खासकरके अंग्रेजों के प्रति उनका आक्रोस बहुत ज्यादा बढ़ने लगा और फिर 10 मई 1957 को इस महान विद्रोह का शुरुआत मेरठ नामक जगह से हुई थी  और फिर देखते ही देखते यह आंदोलन पुरे देश में तेजी से फैलने लगा।  जिसमें कई राजाओं ने अलग – अलग जगह से इस आंदोलन को आगे बढ़ाया।     इस विद्रोह के समय भारत का गवर्नर जनरल -लॉर्ड केनिन था।  

1857 की महान  क्रांति का केंन्द्र 

दिल्ली :- बहादुरशाह जफर 

कानपूर :- तात्या टोपे ( रामचंद्र पांडुरंग ) 

लखनऊ :- बेगम हजरत महल 

झांसी :- रानीलक्ष्मी बाई 

जगदीशपुर ( बिहार ) :- वीर  कुँअर सिंह  

बरेली :- खान बहादुर खा 

इलाहबाद :- लियाकत अली खा 

रानीलक्ष्मी बाई जिसका नाम ही स्वाभिमानी  का प्रतिक है। रानीलक्ष्मी बाई ने साबित कर दिया की जब देश भक्ति और देश प्रेम की भावना दिल में उठती है तो देश की गरिमा और स्वाभिमान को कोई अंग्रेज उसे झुका नहीं सकती है।      

1857 की क्रांति ने पुरे देश में आजादी का एक चिंगारी लगा दी थी  ।  भले ही उस समय क्रांतिकारियों का सम्मलित कोई संगठन नहीं था।  लेकिन पुरे देश भर में आजादी की लहार तेज होने लगी थी।  

नरमपंथी \ उदारवादी चरण  1885 – 1905

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

1885 :-  कांग्रेस की स्थापना की गई।  इस उद्देश की हम एक संगठन के माध्यम से हम अपनी आजादी के माँग को आसानी तरीके से अंग्रेजों तक पहुंचा सकेंगे। जिसमें  72 प्रतिनिधि ने भाग लिया था।  

कांग्रेस की स्थापना :-  ए  ओ  ह्यूम ने किया था।  इस समय भारत का गवर्नर जनरल :- लॉड डफरिन था।  

कांग्रेस का पहला अधिवेशन :- बम्बई में हुआ था जिसका अध्यक्ष  व्योमेशचंद्र बनर्जी था 

1887 में  दादाभाई नैरोजी ने इंगलैंड में भारत सुधार समिति का स्थापना किया था।  जिसका मुख्य उद्देश्य था।  भारत में अंग्रेजों की नीतियों को विफल करना जिसके लिए उन्होंने अंग्रेजो के कई रणनीतियों के विरुद्ध सवैधानिक तरीके से लड़े लेकिन कोई खास सफलता नहीं पायी।  

और फिर भारत का राजनीती दल दो भागों में बट गया।  एक था उदारवादी दल और दूसरा था उग्रवादी दल।  

उदारवादी दल में शामिल था :- दादाभाई नैरोजी , गोविन्द रनाडे , गोपालकृष्ण गोखले , और मदनमोहन मालवीय।  उदारवादी दल के जो नेता था वो अंग्रेजो से बात चीत थोड़ा  नैतिक तरीके से करते थे।  

उग्रवादी दल :- उग्रवादी दल के नेता था।  लालराजपत राय , बालगंगाधर तिलक , अरविंद  घोष  और बिपिन चन्द्र पाल था।  जिसे :- लाल , बाल और पाल के नाम से भी जाना जाता था।  इनका  विचारधारा एक क्रन्तिकारी विचारधारा था। ये मानते थे की देश को आजाद और शांतिप्रिय बनाने के लिए हमें एक बड़े स्तर पर युद्ध करनी ही  पड़ेगी।  इनका नारा भी अंग्रेजी सरकार के खिलाफ बन्दुक की गोली की तरह काम करता  था।   

लालराजपत राय :-  मेरे शरीर पर पड़ी एक एक लाठी ब्रिटिश सरकार के ताबूत में एक एक कील का काम करेगी। बालगंगाधर तिलक : – मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और मै उसे लेकर रहुँगा।  

गरम पंथी \ उग्रवादी चरण (1905 – 1917 )

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

बंगाल में बढ़ते राष्टवाद को देखते हुवे 20 जुलाई 1905 को बंगाल के गवर्नर – लॉड कर्जन ने बंगाल का विभाजन की घोषणा कर दिया।  ताकी आंदोलन की गति स्थगित हो जाय।  

जिसके विरोध में 7 अगस्त 1905 को कोलकत्ता में स्वदेशी आंदोलन आरंभ किया गया था।  जिसका नेतृत्व सुरेन्द्र नाथ बेनर्जी कर रहे थे।  इसके वाबजूद भी 15 अक्टूवर 1905 को बंगाल का विभाजन कर दिया गया।  

1906 में आगा खा और सलीम मुल्लाह खा ने बांग्लादेश के ढाका में मुस्लिम लीग की स्थापना कर दी।  

1907 में कांग्रेस का सूरत अधिवेशन आयोजित किया गया।  इस अधिवेशन की अध्यक्षता  रासबिहारी बॉस ने की थी।  और फिर कांग्रेस नरम और गरम दल में बट गई।  

1908 – 1910 

वर्ष 1908 में युवा क्रन्तिकारी खुदीराम बोस को किंग्सफोर्ड की हत्या के आरोप में फांसी की सजा हुवा था।  खुदीराम बोस युगांतर दल के सक्रीय नेता था।  खुदीराम बोस पहला युवा क्रान्तिकारी था जिसे 18 साल की उम्र में फांसी का सजा मिली थी।  

वर्ष  1911 

वर्ष 1911 में लॉर्ड हार्डिंग ने दिल्ली के  भव्य आयोजन में इंगलैंड के सम्राट जॉर्ज पंचम और मेरी के स्वागत में कई घोषणा किया था।  

बंगाल विभाजन रद्द किया और फिर भारत की राजधानी कोलकत्ता से दिल्ली हस्तान्तरित किया।  और फिर वर्ष 1912 में दिल्ली भारत की राजधानी बनी।  

वर्ष 1913  में लाला हरदयाल ने ग़दर पार्टी का स्थापना किया था जिसका मुख्य उद्देश्य था हो रही क्रांतिकारी गतिविधियों को और तेज करना।  

वर्ष 1916 में होमरूल लिंग की स्थापना और कांग्रेस का लखनऊ अधिवेशन हुआ था।  होमरूल लिंग का स्थापना का मुख्य उद्देश्य था।  भारत में स्वशासन की स्थापना करना जिसकी अध्यक्षता पुणे में – बालगंगाधर तिलक और मद्रास में –  एनी बेसेंट ने क्या था।  

बालगंगाधर तिलक 

गरमदलीय आंदोलन का पिता कहा जाता था।  

स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और मै उसे लेकर रहुँगा।  

भारतीय अशांति का जनक भी बालगंगाधर तिलक को कहा जाता है।  

महाराष्ट में गणपति उत्सव आरंभ करने का श्रय भी बालगंगाधर तिलक को जाता है।  

गांधीवादी युग 1917 – 1947 

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

1915 में ही गांधीजी अफ्रीका से लौटे थे जहां उसने 21  साल तक वहां वकालत किया था। गांधीजी ने लोगो को  प्रथम विश्व युद्ध में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करता था।  जिस वजह से लोग इन्हें भर्ती करने वाला सार्जेंट कहने लगे थे।  गांधीजी को केसर ए हिन्द की उपाधि भी मिला।  

वर्ष 1917 में गांधीजी ने अपना आंदोलन प्रारंभ किया था जिसमे से 

पहला आंदोलन उसने बिहार राज्य के चम्पारण जिले में किया था जहां किसानो के नील के खेती पर बहुत अधिक कर वसूला जाता था।    

दूसरा आंदोलन गुजरात के खेड़ा जिले में कर नहीं आंदोलन चलाया था।  

तीसरा आंदोलन अमदाबाद में मजदूरों के साथ मजदूरों के साथ भूख हरताल किया था। 

गांधीजी द्वारा चलाया गया तीनो ही आंदोलन एक सफल आंदोलन रहा जिसके वजह से ब्रिटिश सरकार दवाब में आ गया और फिर उसने एक 19 मार्च 1919 को एक कानून चलाया रॉलेक्ट एक्ट जिसके माध्यम से किसी भी इंसान पर बिना मुक़दमा चलाये उसे गिरप्तार किया जा सकता था।  और उसके विरुद्ध कोई न अपील न दलील और न ही कोई वकील किया जा सकता था।  इस कानून के विरोध में गांधजी ने पुरे देश में व्यापक स्तर पर हड़ताल की।  

13 अप्रैल 1919 को जलियावाला बाग हत्याकांड हुवा था। जहां  अमृतशहर के जलियावालाबाग में हो रही सभा पर जनरल डायर ने गोली चलवा दिया था।  जिसमे हजारो लोग मारे गए थे।

जलियावालाबाग हत्याकांड के बाद रवीन्द्रनाथ टैगोर ने सर की उपाधि वापस कर दिया था।  इस समय भारत का वायसराय – लॉड  चेम्सफोर्ड था।    

1 अक्टूवर 1920 ई को गांधीजी ने रॉलेक्ट एक्ट और जलियावालाबाग हत्याकाण्ड के विरोध में असहयोग आंदोलन चलाया।  लेकिन 5 फरवरी 1922 को कुछ आंदोलकारियों ने क्रोध में आकर चोरी चोरा नामक स्थान पर एक थाने में आग लगा दिया जिसमे एक थानेदार के साथ – साथ 21 पुलिस कर्मचारी मरे गए।  इस घटना से दुखी होकर गांधीजी ने असहयोग आंदोलन वापस ले लिया।    

वर्ष 1923 में मोतीलाल नेहरू और चित्तरंदनदास ने स्वराज पार्टी का स्थापना किया था जिसका मुख्य उद्देशय था भारत में एक सवेधानिक कानून बनाना।  

1924 में गांधीजी ने कांग्रेस के कर्नाटक के बेलगाव  अधिवेशन का अध्यक्षता की जिसमे उन्होंने स्वराज पार्टी का समर्थन दिया था।  

1927 में भारत में संविधान बनाने के लिए साइमन कमीशन की नियुक्ति हुई लेकिन  इस कमीशन का सरे सदस्य अंग्रेज होने के वजह से 30 अक्टूवर 1928 को  पुरे देश में साइमन कमीशन वापस जाओ का नारा लगने लगा जिसमे सबसे अधिक विरोध लालराजपत राय ने किया था।  और फिर सरकार के आदेश पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया जिसमे लालराजपत राय बुरे तरीके से घायल हो गया।  और फिर उनकी मृत्यु हो गया।  

17 दिसंबर 1928 को भगत सिंह और उनके क्रांतिकारियों ने लालराजपतराय की हत्या का बदला लेने के लिए केप्टान सॉन्डर्स को गोली मार कर हत्या कर दिया।  

वर्ष 1929 को लाहौर में कांग्रेस अधिवेशन हुआ था जिसका अध्यक्षता जवाहरलाल नेहरू ने किया था।  जिसमे उन्होंने पूर्ण स्वराज की माँग किया था।  

8 अप्रैल 1929 को दिल्ली के सेंट्रल असेम्ब्ली में भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने पब्लिक सेप्टी बिल के विरोध करने के लिए खाली टेबल पर नकली बम फेका था

1930 को गोलमेज सम्मेलन हुआ था।  

प्रथम गोलमेज- 1930  , द्वितीये गोलमेज- 1931  और तृतीय गोलमेज  सम्मेलन – 1932 को हुआ था जिसमे सविधान लगभग 40 % पूरा चूका था।  इस तीनों गोलमेज सम्मलेन में भाग लेने वाला व्यक्ति भीमराव अम्बेडकर था।  

सविनय अविज्ञा आंदोलन  

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

12 मार्च 1930 को गाँधीजी ने 79 मजदूरों के साथ नमक सत्याग्रह आंदोलन किया और फिर 322 किमी पैदल चलकर दांडी पहुँचा और 6 अप्रैल 1930 को  नमक बनाकर यह आंदोलन को तोड़ा 

वर्ष 1931 में गाँधी इरविन समझौता हुआ जिसमे सविनय अविज्ञा आंदोलन   बंद हो गया।  

23 मार्च 1931 को अंग्रेजी सरकार ने भगत सिंह , राजगुरु और बटुकेशवर दत्त को दोषी साबित कर उन्हें फांसी दे दिया।  

13 मार्च 1940 को ऊधम सिंह ने जलियावालाबाग पर गोली चलाने की आदेश देने वाले जनरल डायर को लंदन में जाकर गोली मार कर हत्या कर दिया था।  

22 मार्च 1940 के लाहौर अधिवेशन में मोहम्मद अलीजिन्ना ने  पाकिस्तान के रूप में एक अलग राष्ट की माँग की थी।  

वर्ष 1942 में क्रिप्स मिशन भारत आया था।  इस समय भारत का वायसराय लॉड लिनलिथगो था।  

वर्ष 1942 को गाँधी जी ने अंग्रेज भारत छोड़ो प्रस्ताव पारित किया।  जिसमे उन्होंने करो या मरो का नारा दिया था।  इसके बाद गाँधी और कांग्रेस के सभी महत्वपूर्ण नेता को गिरप्तार कर अलग – अलग जेल में रखा गया।  

रासबिहारी बोष ने आजाद हिन्द फौज की स्थापना किया।  

वर्ष 1943 को सुभाषचंद्र बोस को आजाद हिन्द फौज की सर्वोच्च सेनापति बनाया गया।   

वर्ष 1946 को कैबिनेट मिशन भारत आया था।  इस मिशन के तहत  भारत का संविधान बनकर तैयार हो गया था।  

वर्ष 1947 को माउंटबेटन योजना के अनुसार भारत और पाकिस्तान का बटवारा हो गया और दोनों को अलग – अलग राष्ट बना दिया गया और दिनों देशों के बीच रेडक्लिफ रेखा खींच दी गयी। 

इस प्रकार 15 अगस्त 1947 को देश कई वर्षों  के बाद आजाद हुआ और 26 जनवरी 1950 को देश में सविधान लागु किया गया।

पढ़िए एक महान क्रन्तिकारी भगत सिंह के जीवन  बारे में 

Question और Answer

About History Of India In Hindi आधुनिक भारत का इतिहास

चित्तोड़गड में विजय स्तम का निर्माण किसने करवाया था।  

answer  :- 1448 में राणा कुम्भा ने करवाया था 

बाबर के पिता का नाम क्या था।  

answer :- उमरशेख मिर्जा था 

घाघरा का युद्ध कब हुआ था।  

answer :-  1529 में हुमायुनमा किसने लिखा था 

answer :-  गुलबदन बेगम 

पाटलिपुत्र का नाम पटना किसने रखा 

answer :-  शेरशाह ने 

शेरशाह का मकबरा बिहार के किस राज्य में है 

answer :-  सासाराम में 

ग्राण्ड ट्रंक रोड किसने बनवाया था।  

answer :-  शेरशाह सूरी ने 

अकबर का राज अभिषेक कब हुआ था।  

answer :-  14 फरवरी 1556 को 

तीर्थयात्रा कर किसने समाप्त किया था।  

answer :-  अकबर ने 1563 

पुर्तगालियों ने अपना पहला दुर्ग कहा स्थापित किया था। 

answer :- कोचीन में 

भारत आने वाला पहला पुर्तगाली कौन था।  

answer :- वास्कोडिगामा 1498 

भारत तक समुद्री मार्ग का खोज का श्रेय किसे जाता है।  

answer :- पुर्तगालियों को 

1760 ई में वंडीवास का युद्ध किनके बीच हुआ था।  

answer :- अंग्रेजों और फ्रांसीसियों के बीच हुआ था 

बक्सर का युद्ध कब हुवा था।  

answer :- 1764 में 

रैयतवारी प्रथा किसने शुरू किया था।  

answer :- टॉमसमुनरो ने 

कोलकत्ता नगर की स्थापना किस वर्ष हुई थी।  

answer :- 1690 में 

बंगाल का नवाब किसे कहा जाता था।  

answer :- सिराजुद्दौला को 

महाराणा रणजीत सिंह की राजधानी कहा थी।  

answer :- लाहौर 

टीपू सुल्तान की राजधानी कहां थी।  

answer :- श्रीरंगम 

भारत में ईस्ट इंडिया कम्पनी की स्थापना कब हुई थी।  

answer :-1600 ई में 

ईस्ट इंडिया कम्पनी का कार्य भारत में समाप्त किया गया।  

answer :- 1858 ई में 

भारत में सती प्रथा और ठगी का अन्त किस अंग्रेज ने किया था।  

answer :- लॉडविलियम बैंटिक ने किया था  

1857 ई के विद्रोह कहाँ से प्रारंभ हुआ था।  

answer :- मेरठ से 

1857 के समय भारत का गवर्नल जनरल कौन था।  

answer :-  लॉडकैनिंग था

रानी लक्ष्मीबाई का मूल नाम क्या था।  

answer :-  मणिकर्णिका 

किसे  भारत का महान वृद्ध व्यक्ति कहा जाता है।

answer :-   दादाभाई नैरोजी 

तात्या टोपे का मूल नाम क्या था।  

answer :-  रामचंद्र पांडूरंग 

ग़दर पार्टी के नेता कौन थे 

answer :- लाला हरदयाल था 

भारतीय राष्टीय कांग्रेस के प्रथम महिला अध्यक्ष कौन थी 

answer :-  एनी बेसेन्ट थी।  

वर्ष 1911 में किसने भारत की राजधानी कोलकत्ता से दिल्ली हस्तांरित किया था।  

answer :-  लॉड हाडिंग ने 

गाँधीजी का प्रथम सफल सत्याग्रह आंदोलन कौन सा था।  

answer :-  चम्पारण सत्याग्रह था।  

गाँधीजी को सर्वप्रथम राष्टपिता किसने कहा था।  

answer :-  सुभाषचंद्र बोस ने 

गाँधीजी के नाम के आगे महत्मा किसने जोड़ा था।  

answer :-  रवीन्द्रनाथ टैगोर ने 

महत्मा गाँधी का हत्या कब हुई थी।  

answer :-  30 जनवरी 1948 को 

मई एक्सपेरिमेंट विथ टूथ  पुस्तक के लेखक कौन है।  

answer :-  महात्मा गाँधी

जय हिन्द का नारा किसने दिया था।  

answer :-  सुभाषचंद्र बोस ने 

कांग्रेस के किस अधिवेशन के तहत आजादी एक लिए पूर्ण स्वराज का माँग घोषित किया गया।  

answer :-  लाहौर अधिवेश 1929 के तहत 

गाँधी इरविन समझौता किससे सम्बंधित है  

answer :-  सविनय अवज्ञा आंदोलन से 

स्वतंत्र भारत के प्रथम गवर्नल जनरल कौन था।  

answer :-  लॉड माउन्टबेटन था 

काकोरी डकैती कांड के नायक कौन था।  

answer :-  राम प्रसाद बिस्मिल था

सरदार वल्लव भाई पटेल किसके लिए प्रसिद्ध थे।  

answer :-  राज्यों एक पुनर्गठन के लिए 

साइमन कमिसन भारत कब आया था।  

answer :-  1928 में 

जलियाँवाला बाग के नरसंहार के समय भारत का वायसराय कौन था।  

answer :-  लॉड चेम्सफोर्ड था 

डॉ भीमराव अम्बेडकर का मृत्यु कब हुआ था।  

answer :-  1956 ई 

भारत में स्वत्रंता  प्राप्ति के समय ब्रिटेन में कौन पार्टी का सरकार था।  

answer :-  लेबर दल ( क्लीमेंट एटली)

द्वितीय विश्वयुद्ध कब समाप्त  हुआ था।  

answer :-  1945 में 

  क्रिस्प मिशन भारत कब आया था।  

answer :-  1942 में 

भारतीय राष्टीय कांग्रेस के प्रथम भारतीय महिला अध्यक्ष कौन बानी थी।  

answer :-  सरोजिनी नायडू 

I hope guys you love this article 

इसे भी पढ़े

motivational प्रेम कहानी का इतिहास 

 

लेखक के बारे में

  • Princi Soni

    I have been writing for the Apna Kal for a few years now and I love it! My content has been Also published in leading newspapers and magazines.

अपने दोस्तों को शेयर करें !!

Leave a Comment

DMCA.com Protection Status