गांव में कैंप लगाकर आयुष्मान में हो रहा बड़ा घोटाला, स्वस्थ लोगों का मरीज बनाकर कमा रहे पैसा

केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई आयुष्मान भारत योजना जिसका मुख्य उद्देश्य प्रदेश के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को मुफ्त में स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराना है, पर सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना का सहारा लेकर धड़ाके से फर्जीवाड़ा चल रहा है। प्रदेश में हो रहे घोटाले के कई मामले भोपाल, इंदौर और उज्जैन के मेडिकल कॉलेज की विभागीय जांच के दौरान सामने आ रहे हैं, जिसमें धोखाधड़ी से स्वस्थ लोगों को अस्वस्थ बताकर उनका इलाज किया जा रहा है और इस कार्य के लिए उन लोगों को पैसे भी दिए जा रहे हैं। 

दरअसल मध्य प्रदेश के उज्जैन, इंदौर और भोपाल जिले के मेडिकल कॉलेज की विभागीय जांच के दौरान कई चौका देने वाले धोखाधड़ी के मामले सामने आए हैं जिसमें अस्पतालों द्वारा गांव में गरीबी रेखा में आने वाले इलाकों में कैंप लगाकर आयुष्मान कार्ड धारकों को ढूंढा जा रहा है और उनके जरिए स्वस्थ लोगों को मरीज बनाकर उनका इलाज करने के लिए उन्हें बसों और एंबुलेंस में बैठाकर अस्पताल ले जाया जा रहा है। अस्पताल में 2 घंटे भर्ती होने के उन्हें पैसे भी दिए जा रहे हैं ताकि अस्पताल उनके जरिए लंबे चौड़े बिल निकाल सके। 

आयुष्मान के सहारे चल रहा बड़ा फर्जीवाड़ा  

आयुष्मान कार्ड को भारत सरकार ने लोगों को ₹500000 तक के मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान करने के लिए आरम्भ किया था, पर अब उसके सहारे प्रदेश में बहुत तेजी से फर्जीवाड़ा चल रहा है। बता दें कि प्रदेश के भोपाल, इंदौर और उज्जैन के विभिन्न मेडिकल कॉलेज में धोखाधड़ी से स्वस्थ लोगों को मरीज बनाकर उनकी गंभीर बीमारी का इलाज किया जा रहा ह, जिसके बाद लम्बे चौड़े बिल बनाकर सरकार को तेजी से लूटा जा रहा है। 

फर्जीवाड़े की जांच करने टीम पहुंची मौके पर कॉलेज 

मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध जिलों के 5 मेडिकल कॉलेज में धड़के से आयुष्मान कार्ड धारकों का इस्तेमाल करके फर्जी वाला किया जा रहा है और गैर कानूनी गतिविधियों को पूरा किया जा रहा है। बता दें कि प्रदेश के विभिन्न मेडिकल कॉलेज में जांच करने के लिए 20 सदस्यों की टीम मौके पर अस्पतालों में पहुंची जिसमें मुख्य जिलों के मेडिकल कॉलेजो के चौका देने वाले मामले सामने आए। 

  •  एलएन मेडिकल कॉलेज, भोपाल 

राजधानी भोपाल के जाने-माने एलएन मेडिकल कॉलेज पर इंस्पेक्शन करने के लिए 20 सदस्यों की टीम कॉलेज पहुंची जहां मौके पर टीम ने मेडिकल कॉलेज के बाहर दो बसों को खड़ा पाया जिसमें स्वस्थ लोगों को मरीज बनाकर अस्पताल लाया गया था। जांच के दौरान अस्पताल से कई आयुष्मान कार्ड बरामद किए गए जिनके कार्ड धारक वहां मौजूद ही नहीं थे। 

अस्पताल पर कार्यवाही: एलएन मेडिकल कॉलेज पर कार्यवाही करते हुए तीन गुना जुर्माना के साथ लगभग 1 करोड रुपए के जुर्माने का नोटिस जारी किया गया है। 

इसे भी पढ़ें –  हर महीने की 1 तारीख़ को वेतन भुगतान, लेकिन इन कर्मचारियों को नहीं मिली पिछले 6 महीने से सैलरी

  • आरडी गार्डी कॉलेज, उज्जैन 

उज्जैन की आईडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में स्टेट हेल्थ एजेंसी की विभागीय जांच के दौरान अस्पताल में कई अनियमितायें पाई गई। अस्पताल द्वारा किसी और के आयुष्मान कार्ड में किसी और का मोबाइल नंबर दर्ज करके संदेहस्पद पद फॉर्म बरामद किए गए। 

अस्पताल पर कार्यवाही: गैर कानूनी गतिविधियां करने के जुर्म में अस्पताल के ऊपर डेढ़ करोड़ रुपए का जुर्माना है। 

  • इंडेक्स मेडिकल कॉलेज, इंदौर 

इंदौर के इंडेक्स मेडिकल कॉलेज में अब तक का सबसे चौका देने वाला मामला सामने आया है। बता दें कि यहां पर 15 साल की नाबालिग़ बच्ची को आईवीएफ तकनीक का इस्तेमाल करके उसका बिल बनाकर आयुष्मान भारत के रीइंबर्स में जोड़ दिया गया। इसके साथ ही अस्पताल के पास लगभग 500 मरीज 20 दिनों से पंजीकृत थे जिन्हें मामूली बुखार के लिए 20 दिनों तक भरती रखा गया था। 

अस्पताल पर कार्यवाही: अस्पताल के ऊपर गंभीर अपराध और धोखाधड़ी करने पर 3 करोड रुपए का जुर्माना लगाया गया है। 

इसे भी पढ़ें –  शिवराज के सभी वादे निकले खोखले, पिछले 3 महीने से नहीं मिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को वेतन

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

Leave a Comment

Your Website