MP News: मध्यप्रदेश के 75 हज़ार गेस्ट टीचर्स होंगे नियमित, BJP विधायक ने किया कन्फर्म

मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले गेस्ट टीचर्स एक लंबे अरसे से नियमित होने की उम्मीद राज्य सरकार से लगाते आ रहे हैं लेकिन सरकार गेस्ट टीचर्स को नियमित करने के लिए ठोस कदम उठाते नजर नहीं आ रही। हालांकि सरकार का कहना है कि स्कूल के गेस्ट टीचर्स को नियमित करने के लिए नीति तैयार की जा रही है लेकिन अभी यह कहना गलत नहीं होगा कि ना जाने कब तक गेस्ट टीचर्स को अनियमित होने के कारण अपने असुरक्षित भविष्य की चिंता का सामना करना पड़ेगा। 

राज्य के सरकारी स्कूल के गेस्ट टीचर्स नियमितीकरण के साथ अन्य कई मांगों को पूरा न होने का संघर्ष लंबे समय से करते आ रहे हैं जिस पर सागर विधानसभा सीट के BJP विधायक शैलेंद्र जैन ने स्कूल शिक्षा मंत्री से सरकारी स्कूल के गेस्ट टीचर्स के नियमितीकरण और मानदेय को लेकर सवाल पूछा था जिसके जवाब में शिक्षा मंत्री ने बताया कि गेस्ट टीचर्स के नियमितीकरण की कार्यवाही प्रचलन में है। 

75 हज़ार गेस्ट टीचर्स कर रहे संघर्ष  

मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों में सालों से सेवा करके छात्रों को बेहतर शिक्षा देने के साथ-साथ मध्य प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था और शिक्षा में गुणवत्ता लाने का काम कर रहे राज्य के 75 हज़ार गेस्ट टीचर्स को अपने भविष्य को लेकर चिंता सता रही है। वह वर्षों से सरकारी स्कूलों में पढ़ाकर सेवा दे रहे हैं लेकिन आज तक नियमित होकर अपने भविष्य को सुरक्षित करने में कामयाब ना हो सके और लगातार अनियमितीकरण का संघर्ष करते चले आ रहे हैं। 

BJP विधायक ने किया शिक्षा मंत्री से सवाल 

मध्य प्रदेश के सागर जिले की विधानसभा सीट के भाजपा विधायक शैलेंद्र जैन ने राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री उदय प्रताप सिंह से राज्य के तकरीबन 75 हज़ार गेस्ट टीचर्स अनियमितीकरण से संबंधित सवाल करते हुए पूछा की राज्य के कितने सारे गेस्ट टीचर्स सरकारी स्कूलों में सेवाएं दे रहे हैं और इन्हें कितना मानदेय सरकार की तरफ से मिल रहा है। 

राज्य की शिक्षा व्यवस्था और शिक्षा गुणवत्ता के बेहतर परिणाम इन्हीं के परिश्रम की वजह से आए हैं लेकिन आज तक इन गेस्ट टीचर्स का भविष्य सुरक्षित ना हो सका। नियमितीकरण को लेकर गेस्ट टीचर्स लंबे समय से संघर्ष कर रहे हैं। 

शिक्षा मंत्री का BJP विधायक को जवाब 

भाजपा विधायक शैलेंद्र जैन द्वारा पूछे गए गेस्ट टीचर्स के नियमितीकरण के प्रश्न का जवाब देते हुए स्कूल शिक्षा मंत्री उदय सिंह ने कहा कि आज के समय में राज्य के 72526 गेस्ट टीचर्स सरकारी स्कूलों में सेवाएं दे रहे हैं, उन्होंने बताया कि विभागीय आदेश दिनांक 29/09/2023 के मुताबिक राज्य के गेस्ट टीचर्स वर्ग-1 को 18000 मानदेय, वर्ग-2 को 14000 और वर्ग-3 को 10000 रूपये प्रतिमाह मानदेय दिया जाता है।

इसे भी पढ़ें –  पुरानी पेंशन योजना की मांग को लेकर देशभर में कर्मचारियों का आंदोलन

वहीं उन्होंने बताया कि गेस्ट टीचर्स की नियमित शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में पूरे 25 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान हुआ है, साथ ही शिक्षकों को नियमित करने की कार्यवाही प्रचलन में है। 

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

    View all posts

Leave a Comment

Your Website