MP News: मध्य प्रदेश की 72 हजार महिलाएं समूह से जुड़ीं और 21 हजार दीदियां बन गईं लखपति

मध्य प्रदेश के शाजापुर जिले की लगभग 72 हज़ार महिलाएं समूह से जुड़ी है और 21 हज़ार दीदी लखपति बन चुकी हैं। क्या है पूरा मामला और पीएम मोदी का वर्चुअल संबोधन इसके साथ ही राज्य की अन्य महिलाएं कैसे समूहों से जुड़ कर लाभ प्राप्त कर सकती हैं इस बारे में हम यहां विस्तार से जानने वाले हैं।

पीएम मोदी ने शक्ति वंदन आभियान का किया समापन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शक्ति वंदन अभियान का समापन किया और इस कार्यक्रम को वर्चुअल रूप से पश्चिम बंगाल से ही संबोधित किया। पीएम मोदी का यह कार्यक्रम स्थानीय गांधी हाल शाजापुर में लाइव प्रसारित किया गया। और इस कार्यक्रम में शामिल क्षेत्रीय सांसद महेन्द्र सिंह सोलंकी जी ने बताया कि शाजापुर जिले की लगभग 72 हजार से अधिक महिलाओं ने समूह से जुड़ कर लाभ प्राप्त किया है और 21 हज़ार दीदीयां लखपति बन चुकी हैं।

समूह में शामिल होकर महिलाएं विभिन्न तरह के व्यवसाय कर रही हैं और सबसे अच्छी बात यह है कि महिलाएं अपने पैरों पर खड़ी है। इन समूहों की मदद से कुछ महिलाएं पशुपालन कर रही हैं, कुछ महिलाएं मछली पालन कर रही हैं, कुछ महिलाएं सेंटरिंग का कार्य कर रही है तो कुछ नर्सरी और गौशाला प्रबंधन का कार्य कर रही है। इस कार्यक्रम में शामिल होकर महिलाओं द्वारा अपनी सफलता की कहानी बताई गई जिससे अन्य महिलाओं को भी प्रोत्साहन मिला।

स्वयं सहायता समूह कैसे बनाएं

मध्य प्रदेश की महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों से जुड़ कर अवश्य लाभ प्राप्त करना चाहिए। लेकिन इसके पहले आपको स्वयं सहायता समूहों के लाभ, पात्रता, और आवश्यक दस्तावेजों के बारे में जरुर जन लेना चाहिए।

स्वयं सहायता समूह बनाने के लिए लिए केवल महिलाएं ही पात्र हैं एवं समूह में जुड़ने वाली सभी महिलाओं की न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 10वीं पास होना चाहिए। इसके साथ ही आवश्यक दस्तावेजों में आपके पास महिला सदस्यों का आधार कार्ड, पैन कार्ड, सामूहिक बैंक खाता और एक्टिव मोबाइल नंबर होना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें – महिलाओं को मिलेगा होली का तोहफा, 10 से 11 मार्च के बीच खाते में आएंगे इतने पैसे

उपरोक्त पात्रता और दस्तावेज होने के बाद आपको 10 से 12 महिलाओं का एक समूह बनाना है। और समूह के नाम पर ही आपको एक बैंक खाता खुलवाना होगा आगे की प्रक्रिया करने के लिए आपको अपनी नजदीकी ब्लॉक या फिर प्रखंड कार्यालय में जाना होगा और ऑफलाइन माध्यम से स्वयं सहायता समूह की कागजी कार्रवाई करनी होगी। वैकल्पिक रूप से आप ऑनलाइन पोर्टल https://shgjivika.mp.gov.in/ की मदद भी ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें – मुख्यमंत्री मोहन यादव ने फसल बीमा योजना के तहत जारी किए 775 करोड़ रुपये, 80 लाख किसानों को मिला फायदा

Author

Leave a Comment

Your Website