विवादों में शिवराज सरकार, बीजेपी विधायक के NRI कॉलेज सेंटर से 7 अभ्यर्थियों ने टॉप 10 में बनाई जगह

MP News: मध्यप्रदेश परीक्षा मंडल की ओर से आयोजित पटवारी परीक्षा का परीणाम को लेकर सवाल उठने लगे हैं। छात्राओं और नेताओं का कहना है कि रिज्लट में बड़ा घोटाला हुआ है कांग्रेस के बड़े बड़े नेता अब खुलकर सामने आ रहे हैं और इस घोटाले में जांच की मांग कर रहे हैं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस मामले पर शिवराज सिंह चौहान को यह तक कह दिया है कि घोटाला करना शिवराज सरकार का चरित्र है। 

10 टॉपर में से 7 विधायक के सेंटर से

हाल ही में निकली पटवारी परीक्षा में बीजेपी के एक विधायक के परीक्षा केंद्र NRI कॉलेज सेंटर से न सिर्फ 114 अभ्यार्थियों का चयन हो गया है, बल्कि टॉप टेन में 7 परीक्षार्थी इसी केंद्र से आये हैं।  सभी ‘टॉपर्स’ के स्कोर करीब-करीब एक जैसे होने से गड़बड़ियों की आशंका गहरा गई है। 

आपको बता दें कि विधायक के सेंटर से 7 अभ्यर्थियों ने टॉप 10 में जगह बनाई है।  इन 7 टॉपर ने कुल 200 अंकों वाली पटवारी परीक्षा में 174.88 से लेकर 183.86 तक अंक हासिल किए हैं। टॉप में आये सातों उम्मीदवारों के रोल नंबरों की सीरिज भी एक जैसे अंक ‘2488′ से शुरू होती है। 

विवाद में आये बीजेपी के विधायक का नाम संजीव सिंह कुशवाहा है और वे भिंड शहर से विधानसभा में बीजेपी का प्रतिनिधित्व करते हैं।  विवादों में कड़ी परीक्षा सेंटर का नाम NRI कॉलेज सेंटर है। 

मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव ने कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा आयोजित ग्रुप दो, सब ग्रुप चार की चयन परीक्षा की मेरिट लिस्ट जारी किए जाने के बाद इसे ‘व्यापम-2 घोटाला‘ करार दिया है। इसके चलते अब कमलनाथ ने भी ट्वीट कर परीक्षा, बीजेपी विधायक और शिवराज सरकार के चरित्र पर सवाल उठाया है। 

 इसे भी पढ़ें –  लाड़ली बहना योजना द्वितीय चरण डीबीटी भुगतान स्थिति और अंतिम सूची की जाँच करें

कमलनाथ ने कहा – यही शिवराज सरकार का चरित्र है 

प्रदेश में पटवारी भर्ती परीक्षा में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी के समाचार सामने आ रहे हैं। कई टॉपर एक ही सेंटर पर परीक्षा देकर सफल हुए बताए जा रहे हैं। एक बार फिर फ़र्ज़ीवाडे के तार बीजेपी से जुड़े दिख रहे हैं। व्यापाम, नर्सिंग, आरक्षक भर्ती, कृषि विस्तार अधिकारी और ऐसी ही कितनी ही भर्ती परीक्षाओं ने अंत में घोटाले का रूप लिया है। नौकरी देने के नाम पर भर्ती घोटाला करना शिवराज जी की सरकार का चरित्र बन गया है।

इनसे तो जाँच की माँग करना भी बेकार है क्योंकि हमेशा बड़ी मछलियों को बचा लिया जाता है। मेरी माँग है कि कोई स्वतंत्र एजेंसी मामले की जाँच करे और उन लाखों बेरोज़गारों के साथ न्याय करे जो इन प्रतियोगी और भर्ती परीक्षाओं में शामिल होते हैं। मध्य प्रदेश अब भ्रष्टराज से मुक्ति चाहता है।

 इसे भी पढ़ें – आखिर क्यों पसंद नहीं आ रही है युवाओं को सीखो कमाओ योजना, सामने आये ये बड़े कारण

Author

  • Karan Sharma

    मेरा नाम करण है और मैं apnakal.com वेबसाइट के लिए आर्टिकल लिखता हूं। हिंदी लिखने का मेरा जुनून है जो मुझे सब कुछ के बारे में लिखने के लिए प्रेरित करता है।

Leave a Comment

Your Website