MP News: एक साथ 40 हिन्दू परिवारों ने किया धर्म परिवर्तन और कलेक्टर को खबर तक नहीं  

मध्य प्रदेश राज्य के शिवपुरी जिले करैरा बहगवां गांव से एक साथ 40 परिवारों के धर्म परिवर्तन करने का चौका देने वाला मामला सामने आया है। बता दें कि करैरा के बहगवां गांव के जाटव समाज के लोगों ने छुआछूत की कुप्रथा से तंग आकर धर्म परिवर्तन करने जैसा ठोस कदम उठाया है। शिवपुरी जिले के करैरा बहगवां गांव के 40 हिंदू परिवारों ने जाटव समाज से धर्म परिवर्तन करके बौद्ध भिक्षुओं के माध्यम से बौद्ध धर्म को अपना लिया है। 

शिवपुरी जिले में हुई इस बड़ी घटना का वीडियो एवं खबरें बहुत तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जिसमें यह साफ नजर आ रहा है कि जाटव समाज के 40 हिंदू परिवारों ने छुआछूत के भेदभाव से परेशान होकर बौद्ध धर्म को अपनाने की शपथ ली है। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश राज्य के शिवपुरी जिले में इतनी बड़ी घटना घट हो गई पर जिला कलेक्टर श्री रविंद्र कुमार चौधरी को इस मामले की भनक तक नहीं है, जबकि इस घटना की खबरें सोशल मीडिया से लेकर पत्रकारों तक पहुंच गई है और कई पत्रकार शिवपुरी जिला मुख्यालय से गांव तक जा चुके हैं। 

क्या था धर्म परिवर्तन का पूरा मामला

दरअसल मध्य प्रदेश राज्य के शिवपुरी जिले में करैरा के बहगवां गांव में 31 जनवरी बुधवार को सभी ग्रामीणों ने मिलकर पूरे 25 साल बाद गांव में भागवत कथा का आयोजन किया था, जिसके पश्चात पूरे गांव में भंडारा रखा गया था। भंडारा के कार्यों को पूरा करने के लिए सभी समाज के लोगों को अलग-अलग कार्य सौंप गए थे जिसमें जाटव समाज के लोगों को झूठे पत्तल परोसने एवं उठाने का कार्य सोपा गया। 

उसी वक्त गांव के ही किसी व्यक्ति ने जाटव समाज के ऊपर उंगली उठाते हुए यह बोल दिया कि यदि यह लोग पत्तल परोसेंगे तो सारे पत्तल खराब हो जाएंगे, जिस कारण जाटव समाज को केवल झूठे पत्तल उठाने का कार्य ही सौंपा गया। सिर्फ यही नहीं बल्कि गांव वालों ने यह भी कह दिया कि तुम्हें झूठी पत्तल उठानी है तो उठाओ नहीं तो खाना खाकर अपने-अपने घर चले जाओ। छुआछूत के इस बुरे व्यवहार के चलते ही जाटव समाज के 40 हिंदू परिवारों ने धर्म परिवर्तन कर लिया। 

The Madhya Pradesh Freedom Of Religion Act का हुआ उल्लंघन  

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में घटित हुआ हाल ही का मामला जिसमें 40 परिवारों ने धर्म परिवर्तन किया है बता दें कि यहां पर बिल्कुल खुले रूप में The Madhya Pradesh Freedom Of Religion Act  2021 का उल्लंघन किया गया है इस एक्ट के अंतर्गत मनोवैज्ञानिक दबाव डालकर ग्रामीणों को बौद्ध धर्म अपनाने के लिए उनके ब्रेन वाश करके उन्हें पहले फैसला कर हिंदू धर्म से बौद्ध धर्म लेने को कहां गया जो कि इस The Madhya Pradesh Freedom Of Religion Act  2021 के पूर्ण रूप से विरुद्ध है। 

इसे भी पढ़ें – Mathari Vandna Yojana: महतारी वंदना योजना के तहत महिलाओं को मिलेंगे 12 हज़ार रुपए सालाना, ऐसे करें आवेदन

जिले में इतनी बड़ी घटना हो गई और कलेक्टर को खबर तक नहीं  

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में जाटव समाज के 40 हिंदू परिवारों के धर्म परिवर्तन करने की घटना घट गई जिसकी खबर सोशल मीडिया से लेकर हर न्यूज़ चैनल पर है, परंतु इस पूरे मामले की भनक जिला कलेक्टर श्री रविंद्र कुमार चौधरी को नहीं लगी, उनसे इस पूरे मामले की पूछताछ की गई तो उन्होंने कहा उनको ऐसी कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है।  

कलेक्टर श्री रविंद्र कुमार चौधरी के इस बयान से यह साफ नजर आता है कि उनका इनफॉरमेशन नेटवर्क कितना कमजोर है, उनके जिले के एक गांव में इतनी बड़ी गैर कानूनी गतिविधि को अंजाम दे दिया गया, बाहर से बौद्ध भिक्षुओं ने आकर टेंट लगाकर लोगों का धर्म परिवर्तन भी करवा दिया लेकिन उन्हें इस मामले की खबर ही नहीं। कलेक्टर श्री रविंद्र कुमार चौधरी का इन्फार्मेशन नेटवर्क शिवपुरी जिले में बिलकुल फेलियर साबित होता दिखा। 

इसे भी पढ़ें – चूल्हा बंद हड़ताल: सरकार के ऊपर फिर आई मुसीबत, स्व-सहायता समूह एवं रसोइया बहनों ने उठाई मांग

Author

  • Srajan Thakur

    मेरा नाम सृजन है और मुझे लिखना काफी पसंद है। मैं एक जिज्ञासु वक्तितित्व का हूँ इसलिए मैं सम्पूर्ण विषयों के ऊपर लेख लिखने में सक्षम हूँ। में एक पूर्ण रूप से लेखक कहलाता हूँ।

Leave a Comment

Your Website