मध्यप्रदेश में कांग्रेस के 150 नाम को मिली जगह दो भाग में नाम का ऐलान, खड़गे लेंगे अंतिम निर्णय

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में सभी राजनीतिक पार्टियां अपनी ओर से हर एक क्षेत्र में अपने बेहतर प्रदर्शन के लिए उत्सुक नजर आ रही है, कांग्रेस के वादों और शिवराज सरकार की योजना का जनता में क्या प्रभाव पड़ेगा यह देखना सच में बेहद दिलचस्प होगा। जनता के बीच सभी राजनीतिक पार्टियों अपनी पैठ मजबूत कर रही हैं। सभी राजनीतिक पार्टियों प्रदेश के हर एक क्षेत्र में एक्टिव है। कोई भी वर्ग ना छूटे इसका भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है ऐसे में अब महाकौशल और मालवा निमाड़ के बाद कांग्रेस विंध्य क्षेत्र पर फोकस करने जा रही है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी मध्यप्रदेश के हर एक क्षेत्र में अपनी जन आक्रोश रैली को संबोधित करते दिखाई दे रहे है। हाल ही में आयोजित विंध्य तथा शहडोल जिले में अपनी बातो से जनता को लुभाने का प्रयास कर रहे है। राहुल गांधी OBC वोटरों को जातीय जनगणना कराने का आश्वासन देकर अपनी ओर करना चाहते है। देखना दिलचस्प होगा कि अगली सरकार जनता किसे अपने मत से इस सीएम की कुर्सी में अपना राजनेता चुनती है। आदिवासी समाज के लोगों का चुनावी पांसा किसी भी झोली में जा सकता है सभी राजनीतिक पार्टी अपनी ओर से भरकशक प्रयास में जुटी हुई है।

विंध्य क्षेत्र में राहुल का संवाद

राहुल गांधी शहडोल जिले के ब्योहारी में अपनी जन आक्रोश यात्रा में जन सभा को संबोधित कर रहे हैं तथा आदिवासी समाज के व्यक्तियों से भी जनसंवाद कर उनकी समस्याओं को भी सुन रहे हैं। इस जनसभा के जरिए वे आदिवासी समाज और विंध्य के वोटर्स दोनो को साधने की कोशिश करते देखे गए।

खराब प्रदर्शन को सुधारेंगे राहुल गांधी

राहुल गांधी जन आक्रोश यात्रा के द्वारा विंध्य में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन को सुधारने की कोशिश करते देखे गए। दरअसल साल 2018 के विधानसभा चुनाव में विंध्य की 30 विधानसभा सीटों में से सिर्फ 6 सीटे ही आई थी ऐसे में राहुल शहडोल के आदिवासी वोटरों के साथ विंध्य के ब्राह्मण, ओबीसी , कोल और गोंड समाज के लोगों को साधने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें – सहारा रिफंड वालों के लिए बड़ी खुशखबरी, जानिये कैसे और कब मिलेगा 10 हजार से ज्यादा का पैसा

आदिवासी समाज पर विशेष बातचीत

प्रदेश का शहडोल जिला आदिवासी बाहुल्य इलाका है वही प्रदेश की कुल 230 सीटों में से 47 सीटें आदिवासी वर्ग के लिए आरक्षित रखी गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में करीब 22% वोट आदिवासियों के हैं। ऐसे में इस समाज का वोट बैंक आगामी चुनाव में जीत के लिए पार्टी के लिए बड़ा कार्ड साबित हो सकता है। पिछले चुनाव में आदिवासियों की 47 में से 30 सीटें कांग्रेस ने जीती थी।

मालवा – निमाड़ के आदिवासी समाज

47 सीटों से आदिवासी समाज की 22 सीट मालवा निमाड़ क्षेत्र में आती है इस बात को ध्यान में रखते हुए फिलहाल कांग्रेस मालवा निर्माण अंचल पर ध्यान दे रही है यही कारण है कि इस क्षेत्र में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी दोनों अपनी जन आक्रोश सभा को सम्बोधित करते नजर आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें – नवरात्रि के पहले कर्मचारियों को मिलने वाला है बंपर फ़ायदा, DA में होगी बढ़ोतरी आदेश जारी

Author

Leave a Comment

Your Website